भारतीय सैनिकों के हाथ में अब घातक अमेरिकी राइफल

500 मीटर दूर से ही ढेर होगा दुश्मन


नई दिल्ली

लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर चीन के सामने तैनात भारतीय सैनिकों को अब अत्याधुनिक अमेरिकी राइफल उपलब्ध कराई जा रही है। लद्दाख के न्योमा फॉरवर्ड बेस पर तैनात सैनिकों को अमेरिकी सिग साउर 716 असॉल्ट राइफल और स्विस एमपी-9 पिस्टल गन दी गई है। आतंकरोधी अभियानों में जुटे सुरक्षाबलों को 72,500 आधुनिक और घातक राइफल उपलब्ध कराने के बाद भारत ने चीन सीमा पर तैनात सैनिकों के लिए 75000 राइफलों का ऑर्डर दिया था। इन्हें पूर्वी लद्दाख में चीन सीमा पर तैनात सैनिकों को सौंपा जाएगा।  7.62x51 mm कैलिबर के इन राइफलों से दुश्मन को 500 मीटर की दूरी से ही ढेर किया जा सकता है। इसके लिए पिछले साल अक्टूबर में अमेरिकी कंपनी सिग साउर से 780 करोड़ रुपए का सौदा किया गया था।  नए राइफल इंसास राइफल्स की जगह ले रहे हैं, जिसका उत्पादन ऑर्डिनेंस फैक्ट्रीज बोर्ड की ओर से किया गया था। प्लान के मुताबिक, 1.5 लाख अमेरिकी राइफल आतंकरोधी अभियानों में जुटे सैनिकों और सीमा पर तैनात जवानों को दिए जाएंगे। अन्य सुरक्षाकर्मियों को एके 203 राइफल्स दिए जाएंगे, जिसका उत्पादन अमेठी की हथियार फैक्ट्री में भारत और रूस द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget