मोदी सरकार की बड़ी उपलब्धि

आयुष्मान भारत के तहत इलाज पाने वाले लाभार्थियों की संख्या पहुंची दो करोड़


नई दिल्ली

मोदी सरकार ने आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत दो करोड़ लोगों के इलाज पूरा करने की उपलब्धि हासिल कर ली है। स्वास्थ्य मंत्रालय का दावा है कि इस योजना से गरीब लोगों को अब तक 25,000 करोड़ रुपये से अधिक का लाभ हुआ है। देश के स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने बुधवार को इस योजना के तहत दो करोड़ लोगों के इलाज पूरा होने की उपलब्धि के अवसर पर कहा कि ये वही लोग हैं, जो गरीबी की वजह से अपना इलाज सही ढंग से नहीं करा पाते थे। जिन दो करोड़ लोगों को अस्पताल में भर्ती कराके इस योजना के तहत इलाज मिला है, उनमें से कई ऐसे लोग थे, जो ऐसी बीमारियों का सामना कर रहे थे, जिनमें जान भी जा सकती थी। इस योजना ने बहुत सारे लोगों को नया जीवन दान देने का काम किया है।

बता दें कि 23 सितंबर 2018 को पीएम मोदी ने आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की शुरुआत झारखंड की राजधानी रांची से की थी। उस वक्त पीएम ने कहा था कि इस योजना के जरिए हम एक ऐसा भारत बनाना चाहते हैं, जहां हर नागरिक स्वस्थ्य हो और स्वास्थ्य सेवाओं पर होने वाला खर्च नागरिकों पर बोझ न बने।

मांडविया ने कहा कि जब यह योजना को लांच किया गया था, तो उस वक्त तक बहुत सारे लोगों की प्राथमिकता में स्वास्थ्य नहीं था, लेकिन यह प्रधानमंत्री की दूरदर्शिता थी कि उन्होंने ऐसी योजना की परिकल्पना की और इसे लागू किया। आज जब पूरी दुनिया के साथ-साथ हमारा देश भारत भी कोविड-19 महामारी की मार झेल रहा है, तो ऐसे में इस योजना की उपयोगिता अब हर कोई महसूस कर रहा है। मांडविया ने आगे कहा कि PM-JAY दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम है। इसके लाभार्थियों की संख्या 55 करोड़ से अधिक है। भारत जैसे देशों में देखा गया है कि हेल्थ केयर पर होने वाला खर्च सामान्य परिवारों पर बहुत बड़ा बोझ बन जाता है। खासकर गरीब परिवारों के लोगों को इलाज के लिए कर्ज लेना पड़ता है। महिलाओं को अपना जेवर गिरवी रखना पड़ता है। हम सबने देखा-सुना होगा कि लोगों को इलाज के लिए अपनी जमीन-जायदाद तक बेचनी पड़ती है। जिंदगी भर की बचत एक झटके में बीमारी छीन लेती है। प्रधानमंत्री जी की पहल पर शुरू हुई इस योजना ने ऐसे लोगों का दुख-दर्द दूर करने का काम किया है। बता दें कि आयुष्मान कार्ड जितने लोगों को मिले हैं, उनमें से तकरीबन 50% महिलाएं हैं। 

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget