बाढ़ ग्रस्त इलाकों में संक्रामक बीमारी का बढ़ा खतरा

पटना

बाढ़ और जलजमाव झेल रहे इलाके के लोगों की मुश्किलों को संक्रामक बीमारियों ने और बढ़ा दिया है। इन इलाके में लोग डायरिया, सर्दी-खांसी व बुखार जैसे वायरल बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। इन बीमारियों से पीड़ित लोग शहर के अस्पतालों की ओपीडी में बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। पीएमसीएच, आईजीआईएमएस, न्यू गार्डिनर रोड व अन्य निजी अस्पतालों व क्लिनिकों में दीघा, एजी कॉलोनी, पटेलनगर, गर्दनीबाग, ट्रांसपोर्टनगर, जगनपुरा, जक्कनपुर आदि इलाके के लोग पहुंचने लगे हैं। पीएमसीएच के मेडिसीन विभाग के वरीय चिकित्सक डॉ. राजन कुमार ने बताया कि वायरल बीमारियों से पीड़ित लोग राज्य के अलग-अलग इलाके से आ रहे हैं लेकिन शहरी क्षेत्र से उन इलाके के लोगों की संख्या कुछ ज्यादा है, जहां लोग जलजमाव झेल रहे हैं या झेल चुके हैं। 

आईजीआईएमएस के डॉ. मनोज कुमार चौधरी ने भी जलजमाव वाले इलाके में संक्रामक बीमारियों का प्रकोप बढ़ने की बात कही। उन्‍होंने कहा कि ओपीडी में आनेवाले 70 से 80 प्रतिशत मरीज संक्रामक बीमारियों से पीड़ित रह रहे हैं। इसमें शहरी क्षेत्र के उन मोहल्लों के लोगों की संख्या ज्यादा है जो जलजमाव से प्रभावित रहे हैं। दीघा निवासी शशि रंजन ने बताया कि जलजमाव वाले इलाके में पानी घटना शुरू हो गया है। इसमें गंदगी के कारण सड़न व बदबू उठ रही है। निगम द्वारा चूना ब्लीचिंग का छिड़काव नहीं होने से लोग अब बीमार पड़ने लगे हैं। उन्होंने प्रशासन से राहत कैंपों में लोगों की नियमित स्वास्थ्य जांच कराने और एक डॉक्टर की तैनाती कराने की मांग भी की। डायरिया और अन्य संक्रामक बीमारियों से बचाव के लिए साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने और ठंडा व बासी-खाने से परहेज करने की सलाह डॉक्टरों ने दी है। 


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget