UP की पहली आयुष यूनिवर्सिटी का 28 अगस्त को शिलान्यास

लखनऊ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंशा के अनुरूप गोरखपुर चिकित्सा-शिक्षा का हब बनने की ओर तेजी से अग्रसर है। इसी को और मजबूत करने कड़ी में 28 अगस्त का दिन इतिहास के पन्नों में दर्ज होने जा रहा है। इस दिन प्रदेश के पहले आयुष विश्वविद्यालय की नींव रखी जाएगी तो वहीं गोरक्षपीठ की तरफ से स्थापित निजी विश्वविद्यालय ‘शिक्षार्थ आइए, सेवार्थ जाइए’ की भावना से जनता को समर्पित किया जाएगा। सीएम योगी के विशेष अनुरोध पर इन विश्वविद्यालयों का शिलान्यास और लोकार्पण राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द करेंगे। दोनों ही विश्वविद्यालय विश्व विख्यात नाथपंथ के अधिष्ठाता महायोगी गुरु गोरक्षनाथ के नाम से हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयासों से दोनों विश्वविद्यालयों की सौगात के साथ गोरखपुर की शैक्षिक उपलब्धियों की बानगी चार विश्वविद्यालयों के जरिये देखी जा सकेगी। बनने जा रहे महायोगी गुरु गोरक्षनाथ उत्तर प्रदेश राज्य आयुष विश्वविद्यालय और गोरक्षपीठ की तरफ से बन चुके महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय के पहले गोरखपुर में पंडित दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय और मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय उच्च शिक्षा के क्षेत्र में मजबूत स्तंभ बने हैं। आयुष विश्वविद्यालय के जरिये प्राचीन और पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों का और विकास संभव होगा तो वहीं महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय उच्च शिक्षा के विभिन्न आयामों के साथ ही चिकित्सा शिक्षा, अनुसंधान और चिकित्सा का बड़ा केंद्र बनने जा रहा है। इसके अलावा सीएम योगी के ही प्रयासों से गोरखपुर में एम्स भी बनकर तैयार है। चिकित्सा और चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में मील का पत्थर बनने जा रहे इस संस्थान में एमबीबीएस की पढ़ाई भी शुरू हो चुकी है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget