ओपीडी ठप कराने वाले 150 छात्र निलंबित

पटना

स्वास्थ्य विभाग और प्राचार्य के आश्वासन के बाद भी पीएमसीएच में ओपीडी ठप कराने वाले एमबीबीएस 2019 के 150 से अधिक छात्रों को 15 दिनों के लिए निलंबित कर दिया गया। उन्हें 15 दिनों तक कक्षा में भाग नहीं लेने और तत्काल छात्रावास खाली करने का आदेश दिया गया है। इसके बाद अभिभावक के साथ आने और आगे अनुशासनहीनता नहीं करने की लिखित गारंटी देने के बाद ही दोबारा कक्षा में शामिल होने और हॉस्टल में रहने की अनुमति मिलेगी। यह आदेश पीएमसीएच के प्राचार्य डॉ. बीपी चौधरी ने दिया है। प्राचार्य ने आदेश की कॉपी स्वास्थ्य विभाग, डीएम, एसएसपी और अधीक्षक को भी सौंपी है। अपने आदेश में प्राचार्य ने कहा कि छात्रों के परिणाम में मेडिकल कॉलेज प्रशासन की कोई भूमिका नहीं रहती है। बावजूद इसके शनिवार को छात्रों के प्रदर्शन के बाद आर्यभट्ट ज्ञान विवि प्रशासन से सहानुभूतिपूर्वक कार्रवाई करने और संशोधित रिजल्ट प्रकाशित करने का आग्रह किया था। 

बावजूद इसके सोमवार को छात्रों ने ओपीडी ठप कराई। इसके अलावा 2020 बैच के क्लास कर रहे छात्रों के साथ अभद्रता भी की। स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव के निर्देशानुसार छात्रों को निलंबित करने का आदेश दिया गया। प्राचार्य ने अपर मुख्य सचिव से भी विवि प्रशासन से बात कर शीघ्र निपटारा कराने का भी आग्रह किया। एमबीबीएस छात्रों ने प्राचार्य के इस आदेश पर निराशा जताते हुए इसे अन्यायपूर्ण कार्रवाई बताया। छात्रों ने कहा कि विवि के गलत फैसले के कारण कई छात्रों का भविष्य अंधकारमय हो सकता है। छात्रों द्वारा ओपीडी को ठप कराए जाने से दूर-दराज से आए मरीजों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। 

परसा से आई महिला प्रभा देवी सर्दी, खांसी से पीड़ित थीं।  टीबी की आशंका स्थानीय डॉक्टर ने जतायी थी। वे इलाज नहीं करा पाईं। वहीं पालीगंज से हड्डी रोग विभाग में इलाज कराने आए महेंद्र चौधरी को दो घंटे तक इंतजार करना पड़ा। वहीं पटना सिटी की सुरुचि कुमारी लगभग तीन घंटे के इंतजार के बाद अपना इलाज मेडिसिन ओपीडी में करा पाईं।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget