488 सरकारी स्कूल होंगे आदर्श स्कूल

मुंबई

राज्य के 488 सरकारी स्कूलों को शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए आदर्श स्कूलों के रूप में विकसित करने का निर्णय बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक में लिया गया। बैठक की अध्यक्षता मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने की। स्कूलों में भौतिक सुविधाओं के साथ-साथ शैक्षिक गुणवत्ता का विकास कर आदर्श विद्यालयों का निर्माण किया जाएगा। भौतिक सुविधाओं के विकास में पृथक शौचालय, पेयजल व्यवस्था, व्यवस्थित कक्षाएं, आकर्षक भवन, खेल का मैदान, खेल उपकरण, आईसीटी प्रयोगशाला, विज्ञान प्रयोगशाला, पुस्तकालय जैसी सुविधाएं शामिल होंगी। छात्रों को शैक्षणिक गुणवत्ता में सीखने के लिए एक अनुकूल माहौल प्रदान करने का प्रयास किया जाएगा। यह सुनिश्चित करने के लिए ध्यान रखा जाएगा कि शिक्षक छात्रों को पाठ्यपुस्तकों से परे पढ़ाएं। अनुपूरक पठन पुस्तकें और संदर्भ पुस्तकें, विश्वकोश स्कूल पुस्तकालय में उपलब्ध होंगे। इसके अंतर्गत स्व-अध्ययन के साथ-साथ रचनात्मक शैक्षिक कार्यक्रम जैसे सामूहिक अध्ययन भी क्रियान्वित किया जाएगा। आदर्श स्कूल के छात्रों में 21वीं सदी के कौशल के विकास पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। छात्रों में अन्य कौशल जैसे महत्वपूर्ण सोच, वैज्ञानिक झुकाव - संवैधानिक मूल्यों को अपनाने, काम करने के कौशल के साथ-साथ संचार कौशल को विकसित करने के लिए एक सचेत प्रयास किया जाएगा। स्वीकृत 488 आदर्श विद्यालयों के विकास के लिए 494 करोड़ रुपए की धनराशि उपलब्ध कराई जाएगी।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget