भारत के पास बड़ा मौका


नई दिल्‍ली

अमेरिका ने चीन के शिनजिआंग क्षेत्र से कपास के आयात पर पाबंदी लगा दी है। इसकी वजह से भारतीय कपड़ा क्षेत्र के लिए नए अवसर बने हैं। देश के सूती परिधान क्षेत्र के लिए निर्यात के रास्ते खुले हैं। इससे भारतीय कपड़ा का एक्सपोर्ट बढ़ सकता है। कपड़ा निर्यात संवर्धन परिषद (AEPC) के चेयरमैन ए शक्तिवेल ने इस बारे में जानकारी दी। अमेरिका ने श्रम बल से जबरन काम लिए जाने के आरोपों को लेकर जनवरी में चीन के शिनजिआंग क्षेत्र से सूती उत्पादों के आयात पर पाबंदी लगाए जाने की घोषणा की थी। शक्तिवेल ने कहा कि एईपीसी ने चीन से अमेरिका को निर्यात किये जाने वाले 20 कपास परिधान उत्पादों को चिन्हित किया है। उन्होंने एक बयान में कहा कि हमने प्रतिबंध के बाद अमेरिकी बाजार में माल की कमी को पूरा करने के लिये अपने सदस्यों के साथ सूची साझा की है। चीन के शिनजिआंग क्षेत्र से सूती कपड़ों के आयात पर अमेरिकी प्रतिबंध ने भारतीय वस्त्रों के लिए अवसर प्रदान किए हैं। हालांकि इसके लिए जरूरी है कच्चे माल की कीमतों में स्थिरता बनी रहे। उन्होंने कपास और धागों की कीमतों में उतार-चढ़ाव को लेकर चिंता जताई। इससे देश से परिधान निर्यात पर असर पड़ रहा है। शक्तिवेल ने कपड़ा मंत्रालय से मूल्य वर्धित निर्यात पर प्रोत्साहन तथा कच्चे माल के निर्यात को हतोत्साहित करने जैसे कदम उठाने का आग्रह किया। उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि भारतीय कपास परिषद (CCI) को 70 प्रतिशत कपास स्थानीय विनिर्माताओ को उपलब्ध कराने चाहिए। इससे मूल्य वर्धित निर्यात, निवेश और रोजगार को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget