अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के नए दौर में दुनिया : जयशंकर

वैश्विक शक्ति के तौर पर संघर्ष कर रहा अमेरिका

jaishankar

नई दिल्‍ली

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोमवार को कहा कि दुनिया अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के नए चरण में प्रवेश कर रही है। मौजूदा वक्‍त में यदि हम वैश्विक दबदबे के लिहाज से देखें तो अमेरिका एक मजबूत शक्ति के रूप में स्पष्ट रूप से संघर्ष कर रहा है। आने वाले नए दौर में चीन के फिर से उभरने का प्रभाव प्रमुख वैश्विक ताकतों की तुलना में अधिक महसूस किया जाएगा। जेजी क्रॉफर्ड ओरेशन 2021 को संबोधित करते हुए विदेश मंत्री ने यह भी कहा कि आने वाले वक्‍त में कोई दो राय नहीं कि इंडो-पैसिफिक अंतर्राष्‍ट्रीय कूटनीति के मूल में होगा। विदेश मंत्री ने भारत-चीन द्व‍िपक्षीय संबंधों के मसले पर स्‍व. राजीव गांधी के 1988 में चीन दौरे का भी उल्‍लेख किया। उन्‍होंने कहा कि सन 1988 में प्रधानमंत्री राजीव गांधी चीन गए थे। हमारे संबंध इस तथ्य पर आधारित थे कि सीमा पर शांति होगी। दोनों देश विभिन्‍न समझौतों के जरिए इस पर आगे भी बढ़े, जिससे विश्वास पैदा हुआ। इसमें कहा गया था कि दोनों ही देश अपनी सेनाओं को सीमा पर नहीं लाएंगे। सन 1975 के बाद हमारे बीच अपेक्षाकृत छोटी झड़प हुई थी। हालांकि इसमें सीमा पर कोई मौत नहीं हुई। फिर भी हमने पिछले साल एक बड़ी घटना देखी।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget