फिर एक्टिव हो रही 'डी कंपनी'

संदिग्ध आतंकी के साथ थे संबंध: महाराष्ट्र एटीएस


मुंबई

महाराष्ट्र के आतंकवाद-रोधी दस्ते (एटीएस) ने बुधवार को दावा किया कि दिल्ली पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए संदिग्ध आतंकवादी जान मोहम्मद शेख के करीब 20 साल पहले 'डी कंपनी' के साथ संबंध थे। भगोड़े अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम के गिरोह के लिए 'डी कंपनी' शब्द का उपयोग किया जाता है, उन्होंने बताया कि आतंकी कथित तौर पर त्योहारों के दौरान दिल्ली, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र समेत देश भर में धमाके करने की साजिश रच रहे थे। 

दिल्ली जाएगी ATS : एटीएस की ओर से पत्रकार वार्ता में विनित अग्रवाल ने कहा कि एटीएस की टीम जान मोहम्मद के बारे में और जानकारी जुटाने के लिए दिल्ली जाएगी और दिल्ली पुलिस से जानकारियां शेयर करेगी। जान मोहम्मद की गिरफ्तारी के बारे में उन्होंने कहा कि, ‘ जान मोहम्मद ने नौ तारीख को दिल्ली जाने का प्लान किया। 10 तारीख को उसने कुछ पैसे भी ट्रांसफर किए, लेकिन वह टिकट कंफर्म नहीं हो रहा था। इसके बाद उसने 13 तारीख को गोल्डन टेंपल एक्सप्रेस ट्रेन के लिए वेटिंग टिकट लिया। शाम तक उसका तत्काल में टिकट कंफर्म हो गया। वह मुंबई सेंट्रल से अकेले दिल्ली निजामुद्दीन के लिए निकला। जब ट्रेन कोटा पहुंची, तब उसे अरेस्ट कर लिया गया। 

रेलवे की आपात बैठकः दिल्ली में गिरफ्तार आतंकियों और उनके द्वारा लोकल ट्रेनों को निशाना बनाए जाने की जानकारी आने के बाद रेलवे प्रशासन सतर्क हो गया है। इसके चलते आनन फानन में रेलवे पुलिस की एक महत्त्वपूर्ण बैठक रेलवे मुख्यालय में आयोजित की गई। रेलवे पुलिस आयुक्त कैसर खालिद के साथ डीआरएम व अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

पत्नी और बेटियों से पूछताछः धारावी के रहने वाले जान मोहम्मद शेख की गिरफ्तारी के बाद उसकी पत्नी और बेटियों से पूछताछ की जा रही है। सूत्रों के अनुसार जान मोहम्मद शेख किस-किस के संपर्क में था, घर कौन-कौन आता था, उनके क्या नाम हैं, ये लोग कहां रहते थे, की जानकारी पुलिस जुटा रही है।

शेख मुंबई का रहने वाला

गिरफ्तार लोगों में से शेख मुंबई का रहने वाला है। मुंबई पुलिस और एटीएस के अधिकारियों ने उसकी गिरफ्तारी के बाद परिवार के सदस्यों से पूछताछ हुई।  पुलिस ने कहा था कि इस आतंकी साजिश के पीछे पाकिस्तान में रह रहे दाउद इब्राहिम के भाई अनीस इब्राहिम का हाथ था। महाराष्ट्र एटीएस के प्रमुख विनीत अग्रवाल ने बुधवार को यहां संवाददाताओं से कहा कि शेख '' डी कंपनी का गुर्गा'' था और तब उसे सीमा पार से निर्देश मिलते थे। अधिकारी ने कहा कि उन्हें करीब 20 साल पहले शेख के डी-कंपनी से संबंध होने के बारे में पता चला था, उन्होंने कहा कि उस समय शेख के खिलाफ शहर में गोलीबारी और तोड़-फोड़ से जुड़े मामले में पायधनी पुलिस थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। साथ ही कहा कि अन्य आरोपियों के साथ ही शेख भी पुलिस के रडार पर था।  महाराष्ट्र एटीएस के अधिकारी ने कहा कि शेख के ठिकानों की तलाशी लेने पर कोई हथियार या विस्फोटक सामग्री नहीं मिली है। उन्होंने कहा कि एटीएस का दल शेख से पूछताछ के लिए दिल्ली जाएगा और दिल्ली पुलिस के साथ संबंधित जानकारी साझा करेगा।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget