संघ के कार्यकर्ताओं व शाखाओं की संख्या बढ़ाई जाएगी : भागवत


उदयपुर

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघ चालक मोहन भागवत ने कहा कि शाखा के माध्यम से 'स्व' के भाव का जागरण होता है। संघ के शताब्दी वर्ष आने से पहले संघ कार्य की गति बढ़ाने तथा पूर्णकालिक प्रचारकों की संख्या बढ़ाई जाएगी। 

मोहन भागवत तीन दिवसीय उदयपुर प्रवास पर हैं। शुक्रवार को उन्होंने उत्तर पश्चिम क्षेत्र के चित्तौड़ प्रांत के आठ विभाग, चार महानगर तथा 27 जिलों के कार्यकर्ताओं से चर्चा की, जिसमें संघ कार्य के विस्तार और दृढ़ीकरण को लेकर गहन चर्चा हुई। बैठक में तीन सौ से अधिक संघ पदाधिकारी व महत्वपूर्ण कार्यकर्ताओं को ही प्रवेश मिला।

सरसंघ चालक ने बैठक में संघ की शाखा के महत्व पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि संघ की शाखा के माध्यम से बालक, किशोर, तरुणों में 'स्व' अर्थात स्वदेश, स्वभाषा, स्वराज, स्वाभिमान के भाव का जागरण होता है। आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर हर नागरिक में स्वराष्ट्र के प्रति स्वाभिमान और समर्पण का भाव जागरण हो, ऐसे प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि संघ की साठ मिनट की शाखा उसमें शामिल होने वाले हर एक व्यक्ति के जीवन में संस्कार निर्माण की पाठशाला सिद्ध हुई है, इसी कार्य को विस्तारित और दृढ़ करने की जरूरत है।

संघ के कार्यों की गति बढ़ाई जाएगी

सरसंघ चालक भागवत ने बैठकों में विभिन्न विषयों की जानकारी साझा करने के साथ कार्यकर्ताओं की कई जिज्ञासाओं का समाधान भी किया। उन्होंने संघ के शताब्दी वर्ष आने से पूर्व संघ कार्य की गति बढ़ाने तथा पूर्णकालिक प्रचारकों की संख्या बढ़ाने की बात कही। उन्होंने कहा कि शाखाओं के माध्यम से स्वयंसेवक की पहुंच हर घर तक बने, ऐसा प्रयास करने होंगे। सर संघचालक ने कार्यकर्ताओं से क्षेत्र में कोरोना की स्थिति व संघ के माध्यम से हो रहे सेवा कार्यों की जानकारी ली। साथ ही, संभावित तीसरी लहर से सावधानी के मद्देनजर योजना व प्रशिक्षण की आवश्यकताओं पर भी चर्चा की गई।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget