गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन कृत्रिम तालाबों में करें

महापौर पेंडणेकर ने की लोगों से अपील 

kishori pednekar

मुंबई

गणेशोत्सव के दौरान कोरोना नियमों का पालन कराना मनपा और पुलिस प्रशासन के लिए चुनौती बन गई है। इसको ध्यान में रखते हुए महापौर किशोरी पेंडणेकर ने लोगों से अपील की है कि गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन कृत्रिम तालाबों में ही करें। मनपा द्वारा गणेश भक्तों के लिए चलता-फिरता (सचल) तालाब के साथ अनेक स्थानों पर कृत्रिम तालाबों की व्यवस्था की गई है. लोगों को भीड़भाड़ से बचने के साथ भीड़ लगाने से भी बचना चाहिए। 

गौरतलब हो कि महापौर गुरुवार को गणेश विसर्जन को लेकर मनपा द्वारा चौपाटियों सहित अन्य जगहों पर की गई तैयारियों का जायजा ले रहीं थीं, इस दौरान उन्होंने यह बात कही। महापौर ने कहा कि मनपा ने गणेशोत्सव के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। कोरोना से बचने के लिए गणेश भक्तों को निर्देशों का कड़ाई से पालन करना चाहिए। महापौर ने लोगों से अपील की है कि बाहर निकलते समय  फेस मास्क अवश्य पहनें, बार-बार हाथ धोएं और सामाजिक दूरी बनाए रखना ही महामारी से बचने का मुख्य साधन है। 

महापौर के साथ मनपा उपायुक्त परिमंडल-दो हर्षद काले, सहायक आयुक्त  प्रशांत गायकवाड़, जी/उत्तर के सहायक आयुक्त किरण दिघावकर सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

चौपाटियों का भी लिया जायजा

महापौर ने गिरगांव चौपाटी पर होने वाले गणेश विसर्जन की तैयारी  के साथ दादर और माहिम चौपाटी का भी दौरा किया। महापौर ने गणेश मंडलो से अपील की है कि मंडलो द्वारा गणेशमूर्तियों को एक निश्चित दूरी तक लाने के बाद मनपा कर्मचारियों को सौंप दें, ताकि समुद्र में अधिक भीड़ न हो।

विसर्जन करने के लिए 173 कृत्रिम तालाब

मनपा प्रशासन ने गणेश मूर्तियों के विसर्जन के लिए मुंबई में विभिन्न स्थानों पर 173 कृत्रिम तालाब बनाए हैं। विसर्जन के लिए स्थान, तारीख की बुकिंग पहले करनी होगी। गणेश विसर्जन की तिथियों पर मनपा द्वारा सोसायटियों के अलावा जगह-जगह संकलन केंद्र बनाए जाएंगे, जहां से मनपा कर्मचारी मूर्तियों को संकलित कर कृत्रिम तालाबों में विसर्जित करेंगे। पवई तालाब पूर्वी  उपनगर का महत्वपूर्ण तालाब है। यहां प्रति वर्ष घरेलू और सार्वजनिक मंडलों की हजारों मूर्तियों का विसर्जन किया जाता है। पवई, भांडूप, कांजूरमार्ग, विक्रोली, घाटकोपर ,जोगेश्वरी आदि क्षेत्रों की गणेश मूर्तियों का विसर्जन इसमें किया जाता है। गणपति  आगमन और विसर्जन के दौरान केवल पांच लोगों को शामिल होने की अनुमति दी गई है। इस दौरान मास्क, सेनेटाइजर, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना आवश्यक होगा।

381 अवैध मंडपों में विराजमान होंगे बाप्पा 

कोरोना के कारण पिछले दो साल से सार्वजनिक गणेश मंडलों में मूर्तियों की स्थापना में भी भारी कमी आई है। मनपा प्रशासन द्वारा गणेश मूर्तियों की स्थापना के लिए बनाए गए कठोर नियमों के कारण 381 गणेश मंडलों को मूर्ति स्थापित करने की अनुमति नहीं दी गई है। इसके चलते अवैध मंडप में ही गणपति बाप्पा को विराजित होना पड़ेगा। उल्लेखनीय है इस साल सार्वजनिक स्थानों पर गणेश मूर्तियों को स्थापित करने के लिए कुल 2520 मंडलों द्वारा अनुमति मांगी गई थी। मनपा प्रशासन ने कुल 1996 मंडलो को ही अनुमति दी है।  143 मंडलों को मंजूरी देने की कार्रवाई गुरुवार की शाम तक जारी थी। मनपा उपायुक्त हर्षद काले ने बताया कि मंडप बनाने के लिए कुल 381 मंडलों को अनुमति देने से इंकार कर दिया गया है। दो साल पूर्व मुंबई में करीब 12900 सार्वजनिक गणेश मंडप बनाए जाते थे। पिछले साल मात्र साढ़े छह हजार सार्वजनिक गणेश मूर्तियों की स्थापना की गई थी।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget