बाढ़ पीड़ितों का हाल जानने गोरखपुर पहुंचे सीएम योगी

तीन दिन के अंदर सभी को राशन सामग्री देने के निर्देश

गोरखपुर

यूपी के गोरखपुर जिले का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लाभार्थियों में राहत किट वितरण किया। राहत वितरण कार्यक्रमों में उन्होंने कहा कि हरेक नागरिक का जीवन अमूल्य, सरकार सबके साथ पूरी तत्परता से खड़ी है। ऐसे समय में जब नदियों के जलस्तर का 50 साल का रिकार्ड टूटा है, समय पूर्व प्रभावी इंतजामों से बाढ़ बचाव में कामयाबी मिली है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने झगहा, उनवल, सहजनवा एवं लालडिग्री के राहत वितरण के साथ लाभार्थियों को भी संबोधित कर आश्वस्त किया। उन्होंने कहा कि राप्ती नदी खतरे के निशान से ढाई से तीन मीटर ऊपर बह रही। पिछले 50 सालों में नदियों का जल स्तर बढ़ने की इतनी खतरनाक स्थिति कभी नहीं हुई। उन्होंने कहा कि स्वयं 1991 एवं 1998 की स्थिति को भी देखा है। बचाव के लिए समय पूर्व किए गए प्रभावी इंतजामों से जन व धन हानि को रोकने का पूरा प्रयास जारी है। इससे कामयाबी भी मिली। बाढ़ की आशंका को देखते हुए एनडीआरएफ, एसडीआरएफ व पीएसी की फ्लड यूनिट को पहले से ही सक्रिय किया था। पर्याप्त संख्या में नावों की व्यवस्था के साथ राहत सामग्री का पर्याप्त इंतज़ाम है। नाव और स्टीमर की संख्या और बढ़ाने के निर्देश भी दिए गए हैं। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल में भारी बारिश से पूर्वांचल के करीब 15 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं। गोरखपुर में करीब 304 गांवों की 2.26 लाख आबादी बाढ़ से प्रभावित हुई है। यहां 405 नाव और 50 स्टीमर लगाए गए हैं जिनकी संख्या और बढ़ाई जा रही है। बाढ़ चौकियों व कंट्रोल रूम के जरिए बाढ़ पर नियंत्रण के प्रयास जारी हैं। सीएम योगी ने कहा कि बाढ़ पीड़ितों के लिए पर्याप्त मात्रा में खाद्यान्न वितरण जारी है। हर राशन सामग्री किट में 10-10 किलो चावल और आलू के अलॉस 2 किलो अरहर दाल, रिफाइंड तेल, नमक, हल्दी, मिर्च, मसाले के पैकेट, लाई, चना, गुड़, मोमबत्ती, दिया सलाई आदि के साथ ही छाता व बरसाती और 5-5 लीटर के 02 कैन भी दिए जा रहे हैं। तीन दिन के भीतर सभी पीड़ितों तक राहत सामग्री पहुंचा दी जाएगी।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget