कोरोना से जल्द मुक्ति दो विघ्नेश : आरएन सिंह

RN singh

कोरोना की काली छाया के मध्य एक बार पुन: गणपति बप्पा का आगमन हो रहा है। आज से गणपति बप्पा घर-घर विराजेंगे। विगत वर्ष की भांति इस वर्ष भी उत्सव मनाने को लेकर कई तरह की पाबंदियों का अनुपालन अनिवार्य है। कारण देश और राज्य में तीसरी लहर का शंखनाद हो चुका है। तो हम विघ्न विनाशक गजानन की पूजा-अर्चना विधि-विधान से करें, लेकिन ऐसा करते समय कोरोना उपयुक्त व्यवहार का सख्ती से अनुपालन करें। साथ ही विघ्नहर्ता से प्रार्थना करें कि वह जल्दी से जल्दी हमारे बीच से इस महामारी को दूर करें, जिससे हमारे दैनिक क्रियाकलाप फिर उसी तरह संपादित हो सकें, जैसे डेढ़ साल पहले इस महामारी के उद्भव के पहले होता रहा है। भगवान करुणा के सागर हैं। वह हमारी प्रार्थना जरूर सुनेंगे। पाबंदियां या बंधन डालने का सरकार का मकसद सिर्फ और सिर्फ हमारी महामारी से सुरक्षा है। हमे पूजापाठ करते समय मास्क लगाने से, दूरी बनाएं रखने से, स्वच्छता रखने से तथा भीड़-भाड़ से बचने से कोई समस्या नहीं होगी तथा हम सुरक्षित रहेंगे। हम प्रथमेश से अपनी प्रार्थना में सबकी सुरक्षा की मांग करते हुए उन कोरोना योद्धाओं को जरूर याद रखें, जो दिन-रात एक कर हर संभव कोशिश कर रहे हैं कि कोरोना नामक कहर हमारे बीच से जल्द विदा हो। यह सब करते हुए वैक्सीनेशन को भी अपनायें और बप्पा के स्वागत से लेकर विसर्जन तक हर काम में उन मापदंडों  का पालन करें, जो कोरोना से बचने के लिए जरूरी है। मुझे विश्वास है कि बप्पा हमारी प्रार्थना अवश्य सुनेंगे। देश और दुनिया को कोरोना के कहर से मुक्त करेंगे और एक बार फिर गाड़ी तेज गति से विकास के पथ पर दौड़ने लगेगी। मैं गणपति उत्सव के इस पावन अवसर पर समस्त देशवासियों, मुंबई और महाराष्ट्र के हिंदी भाषी समाज और ‘हमारा महानगर’ के पाठकों, विज्ञापनदाताओं और सहयोगियों के कल्याण की कामना करता हूं। साथ ही गणेश जी से प्रार्थना करता हूं कि हमारे देश में सर्वत्र मंगल ही मंगल हो, कहीं कोई अमंगल न हो। देश और समाज विकासपथ पर निर्विघ्न आगे बढ़े और सफलता की हर ऊंचाई हासिल करे, उत्तरोत्तर प्रगति करे। गणेशजी हमारा मार्ग बाधारहित और निष्कंटक करें। इस धराधाम को कोरोना से मुक्त करें।

- आर.एन. सिंह

विधायक: भाजपा 

अध्यक्ष: उत्तर भारतीय संघ, मुंबई 

संरक्षक: ‘हमारा महानगर’


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget