महामारी के बावजूद भारत में बेहतर अवसर

नई दिल्‍ली

भारत की अग्रणी लर्निंग सोल्युशन कंपनी टीमलीज़ ऐडटेक ने अपने नए विश्लेषण ‘कैरियर आउटलुक रिपोर्ट’ को पेश किया है। यह रिपोर्ट 14 शहरों एवं 18 क्षेत्रों में जुलाई से दिसम्बर 2021 के दौरान फ्रैशर्स की भर्तियों के रुझानों पर रोशनी डालती है। रिपोर्ट के अनुसार 17 फीसदी नियोक्ता 2021 की दूसरी तिमाही में फ्रैशर्स की भर्तियां करना चाहते हैं। रोचक तथ्य यह है कि अन्य देशों की तुलना में भारत में फ्रैशर्स की भर्तियों के रुझान अधिक हैं। दुनिया भर में इस दृष्टि से औसत 6 फीसदी है, जबकि भारत में 17 फीसदी के आंकड़े के साथ स्थिति अधिक मजबूत है। सेक्टर के परिप्रेक्ष्य से बात करें तो उभरते क्षेत्र जो महामारी के प्रभाव को झेलने में सक्षम रहे हैं और जहां भर्तियों के रुझान अधिक हैं, उनमें शामिल हैं- सूचना प्रोद्यौगिकी- 31 फीसदी, दूरसंचार-25 फीसदी और टेक्नोलॉजी स्टार्टअप- 25 फीसदी। अन्य क्षेत्र जो अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं- हेल्थकेयर एवं फार्मास्युटिकल्स- 23 फीसदी, लॉजिस्टिक्स-23 फीसदी और निर्माण- 21 फीसदी। स्थान के परिप्रेक्ष्य से देखा जाए तो फ्रैशर्स की भर्तियों के लिए मुख्य शहर हैं- बैंगलोर- 43 फीसदी, मुंबई- 31 फीसदी, दिल्ली- 27 फीसदी, चेन्नई- 23 फीसदी और पुणे- 21 फीसदी। इस अवसर पर अपने विचार प्रकट करते हुए शांतनु रूज, संस्थापक एवं सीईओ, टीमलीज़ ऐडटेक ने कहा कि महामारी के बावजूद फ्रैशर्स की भर्तियों के सकारात्मक रुझान देखकर अच्छा महसूस हो रहा है। फरवरी से अप्रैल के दौरान तकरीबन 15 फीसदी नियोक्ता फ्रैशर्स की भर्तियां करना चाहते हैं। ये रुझान चालू अर्द्ध वर्ष में और भी मजबूत होने का अनुमान है, जब तकरीबन 17 फीसदी नियोक्ता फ्रैशर्स की भर्तियां करना चाहते हैं। जहां एक ओर भर्तियों के रुझानों में सुधार हो रहा है, हमें फ्रैशर्स की रोजगार क्षमता पर भी ध्यान देना चाहिए। 


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget