भारत के लिए सबसे सफल पैरालिंपिक

क्लोजिंग सेरेमनी में गोल्डन गर्ल अवनि ने थामा तिरंगा


तोक्यो

ताेक्यो पैरालिंपिक की क्लोजिंग सेरेमनी शुरू हो गई है। अवनि लेखरा भारतीय दल की ध्वजवाहक बनीं। 19 साल की इस शूटर ने ताेक्यो में एक गोल्ड सहित दो मेडल जीते। अवनि ने SH1 कैटेगरी के 10 मीटर एयर पिस्टल में गोल्ड मेडल और 50 मीटर राइफल थ्री पॉजिशन में ब्रांज मेडल जीता। अवनि के अलावा सिंहराज ने ताेक्यो में दो मेडल जीते। 

उन्होंने 10 मीटर एयर पिस्टल में ब्रांज और 50 मीटर एयर पिस्टल में सिल्वर जीता। क्लोजिंग सेरेमनी में भारत के 11 एथलीट भाग ले रहे हैं। 24 अगस्त को उद्घाटन समारोह में 5 एथलीट भाग लिए थे। शॉटपुटर टेकचंद ध्वजवाहक थे। उन्होंने हाईजंपर मरियप्पन थांगवेलु की जगह ली थी। मरियप्पन हवाई यात्रा के दौरान कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए थे, जिसके बाद वह क्वारंटाइन में चले गए थे और उनकी जगह पर टेकचंद को ध्वजवाहक बनाया गया था।

भारत ने 19 मेडल किए अपने नाम

अब भारत के ताेक्यो में 19 मेडल हो चुके हैं। अब तक 53 साल में 11 पैरालिंपिक्स में 12 मेडल आए। 1960 से पैरालिंपिक हो रहा है। भारत 1968 से पैरालिंपिक में भाग ले रहा है। वहीं 1976 और 1980 में भारत ने भाग नहीं लिया था। ताेक्यो में अब तक 5 गोल्ड, 8 सिल्वर और 6 ब्रांज मेडल मिले हैं।

बैडमिंटन में 7 खिलाड़ी गए, 4 ने जीता मेडल

बैडमिंटन को पहली बार ओलिंपिक में शामिल किया गया था। भारत से 7 खिलाड़ियों ने विभिन्न कैटेगरी में भाग लिया। इनमें से चार खिलाड़ी मेडल जीते। प्रमोद भगत और कृष्णा नागर ने गोल्ड जीता, जबकि सुहास यथिराज ने सिल्वर और मनोज सरकार ने ब्रांज मेडल जीता।

पैरालिंपिक में 163 देशों के 4500 भाग लिए

पैरा​िलंपिक खेलों के दौरान 163 देशों के लगभग 4500 खिलाड़ी 22 खेलों की 540 स्पर्धाओं में हिस्सा ले रहे हैं। भारत के खाते में अब तक 18 पदक आ चुके हैं, जिनमें 4 गोल्ड, 8 सिल्वर और 6 ब्रांज शामिल हैं।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget