'चीन की किसी भी कंपनी का हाइवे प्रोजेक्ट में नहीं लगा पैसा'


नई दिल्ली

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बताया है कि हाल के सालों में चीन की किसी भी कंपनी ने भारत के हाइवे प्रोजेक्ट में निवेश नहीं किया है। बीते साल चीन के साथ गलवान घाटी में हुई खूनी झड़प के बाद नितिन गडकरी ने जुलाई 2020 में ही यह ऐलान किया था कि हाइवे प्रोजेक्ट्स में चीन के निवेश को बैन कर दिया जाएगा। इनमें वे निवेश भी शामिल होंगे, जो ज्वाइंट वेंचर के जरिए किए जा रहे हैं। 

गडकरी से यह सवाल किया गया था कि हाल के सालों में चीन ने भारत में चल रही राजमार्ग परियोजनाओं में निवेश किया है या नहीं। इसका जवाब गडकरी ने न में दिया। हालांकि, उन्होंने इस पर कोई और जानकारी नहीं दी। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री गडकरी ने यह भी कहा कि भारत को अपना आयात घटाने और निर्यात बढ़ाने की जरूरत है। अमेरिकी कंपनी टेस्ला की ओर से इलेक्ट्रिक वाहनों पर इंपोर्ट ड्यूटी घटाए जाने की मांग को लेकर किए एक अन्य सवाल पर गडकरी ने कहा कि टेस्ला को टैक्स में किसी भी तरह की छूट दिए जाने पर वित्त मंत्रालय फैसला करेगा। टेस्ला चाहती है कि इंपोर्ट ड्यूटी घटाकर 40 फीसदी किया जाए। मौजूदा समय में 40,000 डॉलर से कम कीमत वाले इलेक्ट्रिक वाहनों में 60 फीसदी इंपोर्ट ड्यूटी लगती है। इससे ऊपर की किसी भी चीज के लिए 100 फीसदी है। एलन मस्क ने कहा था कि भारत में इलेक्ट्रिक व्हीकल कार में इंपोर्ट ड्यूटी अधिक है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget