भाजपा नगरसेवकों का मनपा मुख्यालय पर आंदोलन

लगाया 5,724 करोड़ की अनियमितता का आरोप

BJP protest

मुंबई

कोरोना की आड़ में मुंबई में, मनपा प्रशासन और सत्ताधारी की सांठगांठ से 5,724 करोड़ की अनियमितता किए जाने का आरोप भाजपा ने लगाया है. भाजपा विधायक एवं पूर्व मंत्री योगेश सागर ने बुधवार को एक पत्रकार सम्मेलन में मनपा में चल रहे भ्रष्टाचार को उजागर किया। इस अवसर पर भाजपा नगरसेवकों ने स्थाई  समिति की ऑनलाइन बैठक में सदस्यों को बोलने नहीं दिए जाने पर मनपा मुख्यालय में आंदोलन किया। 

योगेश सागर ने कहा कि अधिनियम 69, और 72 की आड़ में 5 से 75 लाख के प्रस्ताव बिना निविदा के पास किए जा रहे हैं. इन कार्यों का ब्यौरा और ठेकेदार की जानकारी 15 दिन के भीतर स्थायी समिति के सामने रखनी चाहिए। लेकिन इसकी आड़ में पुराने प्रस्ताव भी पास किए जा रहे हैं. ई विभाग में रिचर्डसन और क्रूडास पर 9 करोड़ 93 लाख खर्च किए गए. इसी प्रकार के अन्य उदाहरण हैं जिसमें इन अधिनियमों के तहत अनियमितता की जा रही है. गुट नेता प्रभाकर शिंदे लंबे समय से सभी समितियों की प्रत्यक्ष बैठक लेने की मांग कर रहे हैं लेकिन घोटाला करने के लिए प्रत्यक्ष बैठक का आयोजन नहीं किया जा रहा है. अब कोरोना कम हो गया है, मुंबई को खोल दिया गया है, स्कूल और मंदिर भी खुलने जा रहे हैं, अधिवेशन भी होने जा रहा है लेकिन मनपा सभागृह और समितियों की प्रत्यक्ष बैठक नहीं ली जा रही है. हमारी मांग है कि दोनों डोज लेने वाले नगरसेवकों को अनुमति देकर प्रत्यक्ष बैठक का आयोजन करें.  भाजपा गुट नेता प्रभाकर शिंदे व पार्टी नेता विनोद मिश्र के नेतृत्व में भाजपा नगरसेवकों ने स्थायी समिति अध्यक्ष के कक्ष के बाहर प्रदर्शन किया. स्थायी समिति अध्यक्ष यशवंत जाधव ने बीजेपी के आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि भाजपा पहले हमारे साथ थी अब उन्हें अब हमसे दूरी सही नहीं जा रही है, जिसके चलते अनाप सनाप आरोप लगाए जा रहे हैं। चुनाव नजदीक आ रहा है इसलिए भाजपा स्टंट कर रही है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget