हाईकोर्ट का दुष्कर्म के आरोपी को राहत देने से इंकार

प्रयागराज

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दुष्कर्म के आरोपी के खिलाफ चार्जशीट और सीजेएम शाहजहांपुर द्वारा जारी समन को रद्द करने से इंकार करते हुए उसकी याचिका खारिज कर दी है। कोर्ट ने कहा कि आरोपी का पीड़िता के माथे पर सिंदूर लगाना उसे पत्नी के रूप में स्वीकार कर शादी का वादा करना है। सिंदूर दान व सप्तपदी हिंदू परंपरा में महत्वपूर्ण है। यह आदेश न्यायमूर्ति विवेक अग्रवाल ने विपिन कुमार उर्फ विक्की की याचिका पर दिया है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा कि सीमा सड़क संगठन में कनिष्ठ अभियंता याची को पारिवारिक परंपरा की जानकारी होनी चाहिए। वह पीड़िता से शादी नहीं कर सकता था, फिर भी उसने शारीरिक संबंध बनाया। गलत भावना से शारीरिक संबंध बनाए अथवा नहीं, यह विचारण में तय होगा। इसलिए चार्जशीट रद्द नहीं की जा सकती। याची का कहना था कि सहमति से शारीरिक संबंध बनाने पर आपराधिक केस नहीं बनता। इसलिए उसे राहत दी जाए। याची ने कहा कि पीड़िता प्रेम में खुद हरदोई से लखनऊ के होटल में आई और संबंध बनाए। प्रथम दृष्टया शादी का प्रस्ताव था, यह दुष्कर्म नहीं माना जा सकता। 

हाई कोर्ट ने सिंदूर लगाने को शादी के वादे के रूप में देखते हुए राहत देने से इन्कार कर दिया। मामले के अनुसार दोनों ने फेसबुक पर दोस्ती बढ़ाई और शादी के लिए राजी हुए। पीड़िता ने होटल में आकर शारीरिक संबंध बनाया। बार-बार फोन काल किए। इससे साफ है कि पीड़िता के प्रेम संबंध थे।इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कहा कि भारतीय हिंदू परंपरा में मांग भराई व सप्तपदी महत्वपूर्ण होती है। शिकायतकर्ता की भाभी अभियुक्त के परिवार की है, शादी का वादा कर संबंध बनाया। याची को यह पता होना चाहिए था कि परंपरा में शादी नहीं कर सकते थे। सिंदूर लगाने का तात्पर्य है कि पत्नी के रूप में स्वीकार कर लिया है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget