चीन की हरकत पर भारत की नजर

जवाब देने के लिए एलएसी पर M-777 तोपें तैनात


नई दिल्ली

भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में सैन्य टकराव के 17 महीने हो चुके हैं। इस बीच चीन अपनी सैन्य स्थिति को मजबूत करते हुए एलएसी पर अधिक सैन्य शेल्टर का निर्माण कर रहा है। सूत्रों ने बताया कि ताजा निगरानी और खुफिया रिपोर्ट से पता चला है कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी पूर्वी लद्दाख के सामने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के साथ कम से कम आठ और आगे के स्थानों में अपने सैनिकों के लिए नए मॉड्यूलर कंटेनर-आधारित शेल्टर का निर्माण किया है। नए बने हुए सैनिक शेल्टर उत्तर में काराकोरम दर्रे के पास वहाब ज़िल्गा से लेकर पियू, हॉट स्प्रिंग्स, चांग ला, ताशीगोंग, मांज़ा और चुरुप तक हैं। यह एलएसी के सटे एरिया में दक्षिण की ओर जाता है। एक सूत्र ने कहा, प्रत्येक स्थान में सात समूहों में 80 से 84 कंटेनर व्यवस्थित हैं। ये नए शेल्टर पीएलए द्वारा पिछले साल अप्रैल-मई में सैन्य गतिरोध के बाद से बनाए गए ऐसे कई आवासों के अतिरिक्त हैं, जो स्पष्ट रूप से दिखाते करते हैं कि चीन का निकट भविष्य में फ्रंटलाइन से सैनिकों को हटाने का कोई इरादा नहीं है।

ईस्टर्न लद्दाख में एलएसी पर चीन के साथ तनाव के बाद भारतीय सेना की तैनाती में काफी बदलाव किया गया है। लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर भारतीय सेना ने एम-777 होवित्जर गन (तोप) भी तैनात की हैं। अमेरिका से ली जा रही एम-777 की कुल 7 रेजिमेंट बननी हैं। तीन रेजिमेंट बन गई हैं और चौथी रेजिमेंट बनने की प्रक्रिया में है। हालांकि ईस्टर्न लद्दाख में अब भी सबसे ज्यादा स्वदेशी 105 एमएम कैलिबर की गन तैनात हैं।

भारत का अमेरिका से कुल 145 ए-777 होवित्जर गन लेने का कॉन्ट्रेक्ट हुआ है। ये 30 किमी तक के टारगेट को ध्वस्त कर सकती हैं। हल्की होने की वजह से इसे कम वक्त में ही एक जगह से दूसरी जगह मूव किया जा सकता है। इसके लिए सड़क होना जरूरी नहीं है, चिनूक हेलिकॉप्टर से भी इन्हें एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाया जा सकता है। एलएसी पर चीन के साथ तनाव के बीच भारतीय सेना ने बेहद कम वक्त में अपने एसेस्ट्स मोबलाइज कर दिए थे।

 बॉर्डर एरिया में सड़कें और इंफ्रास्ट्रक्चर सुधरने से सेना का तेजी से मोबलाइजेशन हो पाया और तेजी से सेना ने अपनी तोपें तैनात की।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget