संयुक्त राष्ट्र महासभा में ,आतंकवाद, वैक्सीन, जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दे उठाएगा भारत


नई दिल्ली

अमेरिका के न्यूयार्क शहर में संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के दौरान भारत आतंकवाद, वैक्सीन, जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दों को उठाएगा। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि राजदूत टीएस ‌ित्रमूर्ति ने बताया है कि भारत आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन, वैक्सीन के लिए न्यायसंगत और सस्ती पहुंच, इंडो-पैसिफिक और संयुक्त राष्ट्र सुधार जैसे वैश्विक मुद्दों को मजबूती से उठाने के लिए उच्च-स्तरीय संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपनी आवाज बुलंद करेगा। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस ‌ित्रमूर्ति ने एक विशेष साक्षात्कार बताया कि 76वें संयुक्त राष्ट्र महासभा सत्र में अफगानिस्तान के हालात और कोविड-19 महामारी के चर्चा में रहने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि COVID-19 महामारी और इसके मानवीय प्रभाव के अलावा इस सत्र के उच्च-स्तरीय खंड पर हावी होने की संभावना वाले अन्य मुद्दों में वैश्विक आर्थिक मंदी, आतंकवाद और संबंधित मुद्दे, जलवायु परिवर्तन, मध्य पूर्व और अफ्रीका में चल रहे संघर्ष, अफगानिस्तान के हाल के घटनाक्रम और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सुधारों जैसे मु्द्दे शामिल हैं। संयुक्त राष्ट्र महासभा का 76वां सत्र 14 सितंबर को शुरू हुआ और निवर्तमान अध्यक्ष वोल्कन बोज़कीर ने शाहिद को महासभा के अध्यक्ष का कार्यभार सौंपा। 59 वर्षीय शाहिद को इस साल सात जुलाई को महासभा के 76वें सत्र का अध्यक्ष चुना गया था। संयुक्त राष्ट्र महासभा का 76वां सत्र मंगलवार को शुरू हुआ और निवर्तमान अध्यक्ष वोल्कन बोज़कीर ने शाहिद को महासभा के अध्यक्ष का कार्यभार सौंपा। 59 वर्षीय शाहिद को इस साल सात जुलाई को महासभा के 76वें सत्र का अध्यक्ष चुना गया था। संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) के 76वें सत्र के उच्च स्तरीय सप्ताह में सामान्य बहस 21 सितंबर से चलेगी, जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन मंगलवार(21 सितंबर) को दुनिया के नेताओं को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 सितंबर को आम बहस को संबोधित करेंगे। भारत के संयुक्त राष्ट्र में स्थायी प्रतिनिधि राजदूत टीएस तिरुमूर्ति ने कहा कि उन्होंने शाहिद का संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अध्यक्ष के तौर पर गर्मजोशी से स्वागत किया है। 

उन्होंने कहा कि भारत उनके कार्यकाल में उनका सहोयग करने को उत्सुक है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने 76वें सत्र के आगाज़ पर अपनी टिप्पणी में कहा था कि दुनिया आज जिन चुनौतियों और विभाजनों का सामना कर रही है, वे प्रकृति निर्मित नहीं हैं, बल्कि मानव निर्मित हैं।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget