'ग्लोबल जिहाद' की साजिश


नई दिल्ली

अफगानिस्तान संकट के बीच आतंकवादी संगठन अल कायदा ने 'इस्लामिक जमीनों' की मुक्ति के लिए 'ग्लोबल जिहाद' का आह्वान किया है। अलकायदा ने कश्मीर का भी जिक्र किया। बयान में कश्मीर का जिक्र होने और चेचन्या व शिनजियांग को बाहर रखने से साबित होता है कि इसके पीछे पाकिस्तान का हाथ है। इस बीच तालिबान ने कहा है कि उसे भारत के कश्मीर समेत दुनियाभर के मुस्लिमों के पक्ष में आवाज उठाने का हक है।

जिहाद का आह्वान करता अलकायदा का बयान चिंता की बात है। स्टेटमेंट में कश्मीर का जिक्र साजिश की तरफ इशारा करता है क्योंकि इससे पहले कभी यह अलकायदा के अजेंडे में नहीं था। इस बयान के पीछे पाकिस्तान की आईएसआई है।' दरअसल, अलकायदा के जरिए ग्लोबल जिहाद के आह्वान से ISI लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे पाकिस्तानी आतंकवादी संगठनों को भारत में हमले बढ़ाने का खुला संदेश दे रही है।

अलकायदा दुनिया भर में मुस्लिमों को कट्टर बनाने की कोशिश कर रहा है, यह मानवता के लिए घातक है। पाकिस्तान अपने अजेंडे को आगे बढ़ा रहा है।' 

एक अधिकारी ने बताया कि अलकायदा पर पाकिस्तान का पूरा नियंत्रण है। यहां तक कि तालिबान का सर्वोच्च नेता है। बतुल्लाह अखुंदजादा भी कथित तौर पर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के कब्जे में है।

तालिबान को भारत की दो-टूक

भारत ने कहा है कि अफगानिस्तान की जमीन का इस्तेमाल किसी भी तरह की आतंकी गतिविधि के लिए नहीं होना चाहिए। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि तालिबान से बातचीत होगी या नहीं... इसका जवाब केवल हां या ना में नहीं दिया जा सकता है। हमारा उद्देश्‍य केवल इतना है कि अफगानिस्तान की जमीन का इस्तेमाल किसी भी तरह की आतंकी गतिविधियों के लिए नहीं होना चाहिए।  अफगानिस्‍तान में नई सरकार के गठन के सवाल पर बागची ने कहा कि अफगानिस्तान में किस तरह की सरकार बन सकती है इसके बारे में हमें कोई विस्तार से जानकारी नहीं है। वहीं तालिबान के साथ बातचीत की रिपोर्टों की बाबत पूछे गए सवाल पर अरिंदम बागची ने कहा कि तालिबान के साथ बैठक के बारे में मेरे पास कोई अपडेट नहीं है। यह ऐसा मसला है जिसका केवल हां या ना में जवाब नहीं दिया जा सकता है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget