प्याज काटते वक्त आते हैं आंसू


कीचन के सबसे मुश्किल कामों में से एक है प्‍याज काटना. दरअसल जब हम प्‍याज काटते हैं तो हमारी आंखें इसके प्रभाव में आती हैं और हमारी आंखों में तेज जलन होती है और आंसू आने लगते हैं. इसकी वजह प्याज में मौजूद सिंथेस एंजाइम हैं. ये एन्जाइम आंखों की लैक्रिमल ग्लैंड में पहुंचकर जलन पैदा करते हैं जिसकी वजह से आंखों से आंसू निकलने लगते हैं. अगर आप भी प्याज के कारण आने वाले आंसू से बचने के तरीके ढूंढ रही हैं तो यहां आपके लिए कुछ खास तरकीबें बताई जा रही हैं. इन तरकीबों को अपनाकर आप बिना किसी आंसू या जलन के प्‍याज काट सकती हैं. 

पानी में प्याज काटें

दरअसल जब प्याज काटा जाता है तो वेपर फॉर्मेशन की वजह से इसमें मौजूद एंजाइम हमारी आंखों के संपर्क में आने लगते हैं लेकिन अगर आप प्‍याज को पानी में डुबाकर काटें तो यह वेपर फॉर्मेशन को बाधित करेगा. इसके लिए एक बर्तन में पानी लें और उसमें प्याज को डुबाकर काटें. इस तरीके को अपनाइये और देखिये, किस तरह प्‍याज काटने पर भी आपकी आंखों से आंसू नहीं आए़़ंंगे.

काटने से पहले पानी में डुबोएं प्याज

अगर आप प्‍याज को काटने से पहले उसे छीलकर 10 मिनट के लिए पानी में छोड़ दें और फिर उसे निकालकर काटें तो इसे काटते वक्‍त आंखों से पानी नहीं आएगा. दरअसल जब प्याज को पानी में भिगोकर रखते हैं तो पानी एसिडिक एंजाइम को रिलीज होने से रोक देता है जिस वजह से आंसू नहीं निकलते.

स्टीम के पास काटें प्याज

अगर आपके घर में स्‍टीमर है तो प्‍याज काटने से पहले इसे ऑन कर लें. आप अगर उबले पानी के पास भी प्याज काटती हैं तो इससे निकलने वाला स्‍टीम प्‍याज के प्रभाव को आंखों तक आने से रोकता है. ऐसे में आंखों में जलन नहीं होती.

च्यूइंगम चबाएं

जब भी प्‍याज काटें, मुंह में च्‍यूइंगम रखें. ऐसा देखा गया है कि इससे प्‍याज का असर आंखों पर कम होता है. दरअसल जब आप च्यूइंगम चबाते हैं तो आप मुंह से सांस लेते हैं जिससे प्याज से निकलने वाले वेपर आपकी आंखों के करीब कम आ पाते हैं और आंखों से आंसू नहीं निकलते .

कैंडल जलाएं

प्याज काटते समय अपने पास एक-दो कैंडल जला लें. इससे आपकी आंखों से आंसू नहीं निकलेंगे.

विनेगर में डुबाएं

प्याज को छीलकर उसे कुछ देर के लिए विनेगर और पानी के घोल में डुबोकर रख दें. ऐसा करने से भी आंखों में जलन नहीं होगी.


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget