टाटा ग्रुप में बड़े बदलाव की तैयारी


मुंबई 

भारत का सबसे बड़ा कारोबारी घराना टाटा संस लिमिटेड अब एक ऐतिहासिक बदलाव की ओर जा रहा है। टाटा ग्रुप अपने कॉर्पोरेट गवर्नेंस को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए एक प्रमुख कार्यकारी अधिकारी (CEO) की नियुक्ति करना चाहता है। यानी अब ग्रुप में चेयरमैन और CEO अलग-अलग होंगे।

टाटा ग्रुप 153 साल पुराना है

सूत्रों के मुताबिक, प्रस्तावित प्लान के तहत, नए CEO 153 साल पुराने टाटा के बिजनेस साम्राज्य का मार्गदर्शन करेंगे। जबकि चेयरमैन मॉनिटरिंग अधिकारी की भूमिका में रहेंगे। हालांकि इस फैसले में रतन टाटा की मंजूरी सबसे महत्वपूर्ण है। 83 साल के रतन टाटा अभी टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन हैं।

चंद्रशेखरन का कार्यकाल फरवरी 2022 में खत्म होगा

टाटा संस के मौजूदा चेयरमैन नटराजन चंद्रशेखरन का कार्यकाल फरवरी 2022 में खत्म होगा। उन्हें सेवा विस्तार देने पर विचार किया जा रहा है। टाटा स्टील सहित टाटा समूह की विभिन्न कंपनियों के प्रमुखों का CEO पद के लिए मूल्यांकन भी किया जा रहा है। इस पर अभी तक कोई अंतिम निर्णय नहीं हुआ है। इस योजना में बदलाव भी हो सकता है।

साइरस मिस्त्री के विवाद से लिया सबक

सूत्र बताते हैं कि CEO वाला प्रस्ताव साइरस पी मिस्त्री के साथ साल भर की कानूनी लड़ाई जीतने के कई महीने बाद आया है। मिस्त्री ग्रुप के चेयरमैन थे। उन पर ग्रुप में मिस मैनेजमेंट का आरोप लगाया गया। 2016 में उन्हें पद से हटा दिया गया था। इस प्रस्तावित प्लान से ग्रुप के लिए भविष्य का चार्ट तैयार करने में मदद मिल सकती है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget