उरी में सेना का बड़ा ऑपरेशन

जिंदा पकड़ा गया लश्कर का एक आतंकी


श्रीनगर

भारतीय सेना ने एक बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए जम्मू-कश्मीर के उरी में मंगलवार को भी एक आतंकी को मार गिराया। सर्जिकल स्ट्राइक के 5 साल पूरे होने के मौके पर सेना ने उरी जैसे दूसरे हमले की साजिश को नाकाम किया है। 

पांच साल पहले उरी में ही आतंकियों ने सेना पर हमला किया था। 19 इन्फैंट्री डिवीजन के जनरल ऑफिसर कमांडिंग मेजर जनरल वीरेंद्र वत्स ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि सीमा रेखा के पास 9 दिन से अभियान चल रहा था। इस दौरान कुल 7 आतंकी सेना के हाथों मारे गए। जनरल वीरेंद्र ने बताया कि यह अभियान 18 सितंबर को शुरू किया गया था, जब गश्त लगाते समय सेना को सीमा रेखा के पास घुसपैठ की आशंका हुई थी। उन्होंने बताया कि जब एनकाउंटर शुरू हुआ तो दो घुसपैठिए सीमारेखा में घुसे, जबकि चार घुसपैठिए उसी तरफ रुके रहे। गोलीबारी के बाद धुएं का फायदा उठाते हुए उनमें से दाे आतंकी भारतीय सीमा में घुस आए। इन्हें पकड़ने के लिए अतिरिक्त बल को लगाया गया। 25 सितंबर को एक एनकाउंटर में एक आतंकी को मार गिराया गया, जबकि दूसरे को पकड़ लिया गया। इस आतंकी ने अपना नाम अली बाबर पात्रा बताया। 18 साल का यह आतंकी पाकिस्तान के पंजाब का रहने वाला है और लश्कर-ए-तैयबा से जुड़ा है। उसने मुजफ्फराबाद में ट्रेनिंग ली है। जनरल वीरेंद्र ने बताया कि घुसपैठ की यह कोशिश सलामाबाद नाला के उसी इलाके में की गई जहां पर 2016 में आतंकियों ने घुसपैठ की थी। इन घुसपैठियों की पाकिस्तान की तरफ से तीन सामान उठाने वाले लोगों ने मदद की थी जो LOC तक इनका सामान उठाकर आए थे।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget