महावितरण ने दिया ग्राहकों को दिलासा

अडानी की तर्ज पर नहीं बढ़ेगी बिजली दर


मुंबई 

उपनगरों में बिजली आपूर्ति करने वाली अडानी इलेक्ट्रिसिटी के बढ़े हुए बिजली शुल्क का बोझ महावितरण के ग्राहकों पर नहीं पड़ेगा। बिजली नियामक बोर्ड ने इस आशय का एक निर्देश जारी किया है। शनिवार को कांग्रेस प्रदेश महासचिव राजेश शर्मा ने कहा कि कोयले की बढ़ती अतिरिक्त खरीदी के बोझ का हवाला देते हुए अडानी ने बिजली दर में बढ़ोत्तरी करने का निर्णय लिया है, लेकिन महावितरण उपभोक्ताओं पर इसका बोझ नहीं पड़ेगा। 

राजेश शर्मा ने बताया कि कांग्रेस ने महावितरण और अडानी बिजली कंपनी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी, जिसपर विद्युत नियामक बोर्ड (ईआरसी) ने यह फैसला किया है। एमएसईडीसीएल ने अडानी पावर के खिलाफ यह लड़ाई जीती है, जिससे राज्य में बिजली ग्राहकों के लिए काम हुआ है। तिरोडा में थर्मल पावर प्रोजेक्ट के लिए, अडानी ने पास के विजाग (विशाखापट्ट्नम ) से कोयला खरीदने के बजाय दूर के दहेज बंदरगाह से कोयला खरीदा। दहेज से कोयला खरीदने से दहेज से तिरोडा तक परिवहन की लागत 500 रुपए प्रति मीट्रिक टन बढ़ जाती है। अडानी ने इसके खिलाफ समाधान की मांग की थी, लेकिन अडानी की इस मांग को बिजली नियामक बोर्ड ने खारिज कर दिया।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget