गणेशोत्सव पर मनपा ने जारी की गाइडलाइन

नियमों का सख्ती से प्रशासन करे पालन | तालाब एवं समुद्र में उतरने पर प्रतिबंध

ganapati

मुंबई 

कोरोना मरीजों की संख्या में पिछले कुछ दिनों से फिर बढ़ोत्तरी हो रही है। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए गणेशोत्सव को लेकर मनपा ने गाइडलाइन जारी की है। मनपा ने कहा कि बहुत सरल तरीके से गणेशोत्सव मना कर कोरोना की तीसरी लहर आने से रोकने में मदद करें। मनपा ने 23 बिंदुओं को रेखांकित किया है, जिसके दायरे में रह कर ही गणेशोत्सव मनाने की सलाह दी गई है। इस दायरे के बाहर जाने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। मूर्ति विसर्जन करने के लिए समुद्र एव तालाब में किसी को भी उतरने की अनुमति नहीं दी गई है। मनपा की गाइड लाइन के अनुसार घरेलू गणेश प्रतिमाओं का आगमन जुलूस के रूप में नहीं होना चाहिए। आगमन में अधिकतम पांच लोगों को ही छूट दी गई है। कोरोना की वैक्सीन का दोनों डोज लेने वाले और 15 दिन पूरा करने वालों को ही गणेश मूर्तिया लेने की अनुमति दी गई है। घरेलू मूर्ति की उंचाई दो फीट से अधिक नहीं होनी चाहिए. सार्वजनिक गणेश प्रतिमाओं के आगमन के समय भी 10 से अधिक लोग नहीं होना चाहिए। गणेशोत्सव मंडल भक्तों को ऑनलाइन, केबल नेटवर्क, वेबसाइट, फेसबुक, सोशल मीडिया आदि के माध्यम से दर्शन की सुविधा प्रदान करें। सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल इस बात का ध्यान रखें कि माला/फूल आदि का कम से कम प्रयोग करें और मंडपों में कम से कम भीड़ होने दे। घरेलू मूर्तियों को संभव हो तो घर में बाल्टी या ड्रम में विसर्जित करें अथवा नजदीकी  कृत्रिम तालाब में विसर्जन को प्राथमिकता दें। घरेलू गणेशोत्सव के विसर्जन के समय जुलूस से बचें। विसर्जन के लिए अधिकतम पांच व्यक्ति होने चाहिए। जिनकी दोनों डोज पूरी हो चुकी है वे ही विसर्जन में शामिल हों। आरती भी घर पर ही करें। बच्चों और वरिष्ठ नागरिक सुरक्षा कारणों से विसर्जन स्थल पर न जाएं। सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडलों को मूर्ति को मंडप से विसर्जन स्थल तक बहुत धीमी गति से जुलूस की तरह नहीं ले जाना चाहिए, वाहन को सामान्य गति से विसर्जन स्थल तक ले जाएं। विसर्जन के दौरान वाहन को रोकना और भक्तों को सड़कों पर गणेश प्रतिमा के दर्शन/ पूजा करने की अनुमति देना सख्त मना है। मुंबई में कुल 73 प्राकृतिक विसर्जन स्थल हैं। मनपा ने अतिरिक्त कर्मचारी उपलब्ध कराकर मूर्तियों के संग्रहण की अनुशासित व्यवस्था की है। उन्हें ही गणेश प्रतिमाएं दे। 

सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल के नागरिकों या

कार्यकर्ताओं के लिए सीधे पानी में जाना और इन प्राकृतिक विसर्जन स्थलों पर मूर्तियों का विसर्जन करना प्रतिबंधित है। प्राकृतिक विसर्जन स्थलों पर भीड़ को कम करने के लिए मनपा के 24 विभागों में 173 स्थानों पर कृत्रिम तालाब का निर्माण भी किया गया है।  गणेश विसर्जन के लिए स्थापित केंद्र पर मूर्तियां दें। कंटेनमेंट जोन या सील इमारतों की मूर्तियों को परिसर में ही विसर्जित करें। मनपा /पुलिस प्रशासन निर्धारित नियमों का कड़ाई से पालन कराएं।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget