मिजोरम में पहली बार मिले डेल्टा प्लस वेरिएंट के तीन मामले


आइजोल

पूर्वाेत्‍तर के राज्‍य मिजोरम में पहली बार कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट के तीन मामले सामने आए हैं। राज्‍य के वरिष्‍ठ स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारी ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि मिजोरम में डेल्टा प्लस वेरिएंट के तीन नए मामले सामने आने के बाद राज्‍य में खतरा काफी बढ़ गया है। राज्य सरकार के आधिकारिक प्रवक्ता डॉ. पचुआउ लालमलसामा ने बताया कि जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए 350 नमूनों में से तीन में डेल्‍टा प्‍लस वेरिएंट की जानकारी मिली है। डॉ. लालमलसामा ने बताया कि अगस्‍त के महीने में बंगाल के कल्याणी में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बायोमेडिकल जीनोमिक्स (एनआईबीएमजी) को 350 नमूने भेजे गए थे। जिन तीन मरीजों में डेल्‍टा प्‍लस वेरिएंट की पुष्टि हुई है, उनमें दो चम्‍फाई जिले के हैं जबकि एक कोलासिब जिले का मरीज है। बता दें कि डेल्‍टा प्‍लस वेरिएंट को कोरोना वायरस के सबसे खतरनाक वेरिएंट में एक माना गया है। उन्‍होंने बताया कि इसके साथ ही आइजोल, कोलासिब, चम्फाई, लुंगलेई और सेरछिप जिलों के 213 नमूने डेल्टा वेरिएंट से जुड़े मिले हैं। डॉ. लालमलसामा ने बताया कि अब तक कोरोना के डेल्टा वेरिएंट के 510 मामले सामने आ चुके हैं। उन्होंने बताया कि अगस्त के महीने में राज्‍य में कोविड-19 के डेल्टा वेरिएंट के 115 और मामले सामने आए थे। बता दें कि बुधवार को मिजोरम में कोरोना के 1,355 नए मामले सामने आए। इस दौरान 6 लोगों की मौत हुई। बता दें कि मिजोरम में अब 15,363 एक्टिव केस हैं। जबकि 1,127 लोग ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। राज्य में अब तक 67,184 लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget