बाढ़ पीड़ितों को हर संभव मदद करने का दिया निर्देश        आपदा प्रबंधन दल ने सौ से अधिक को बचाया  

uddhav thackeray

मुंबई

उड़ीसा और आंध्र प्रदेश के समुद्री तटों पर आए चक्रवाती समुद्री तूफान गुलाब के चलते राज्य के अनेक जिलों में भारी बरसात से व्यापक तबाही हुई है. मराठवाड़ा में भारी बारिश के कारण किसानों के हुए नुकसान की भरपाई और उन्हें हर संभव मदद करने का मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया है। मुख्‍यमंत्री जल्‍द ही बाढ़ प्रभावित जिलों का दौरा करेंगे।

बुधवार को सीएम ठाकरे ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की समीक्षा के लिए अधिकारियों की बैठक बुलाई थी, जिसमें ठाकरे ने कहा कि मराठवाड़ा में किसानों की फसलों का भारी नुकसान हुआ है. सरकार इन सभी पीड़ित किसानों के पीछे खड़ी है। 

गौरतलब हो कि पिछले कई दिनों से जारी बारिश के कारण राज्य के कई जिले प्रभावित हुए हैं. जिसे देखते हुए मुख्यमंत्री ने जिलेवार समीक्षा की. उन्होंने प्रशासन को किसी भी हाल में प्रभावित लोगों की हर संभव मदद करने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि ग्रामीणों ने कुछ जगहों बाढ़ प्रभावित पीड़ितों को मदद करने का काम किया, जो सराहनीय है. विभाग आयुक्तों से चर्चा करते हुए सीएम ठाकरे ने कहा कि प्रशासन इस प्राकृतिक आपदा में नागरिकों के बचाव कार्य पर ध्यान देने के साथ ही सभी एजेंसियों के बीच समन्वय बनाए रखे. आयुक्तों के साथ-साथ सीएम ठाकरे ने मराठवाड़ा जिले के सभी पालक मंत्रियों के साथ चर्चा की और कहा कि बाढ़ प्रभावित जिले के सभी पीड़ित किसानों को सरकार द्वारा दी जाने वाली मदद उन तक पहुंचाने में मदद करें। उन्होंने मुख्य सचिव सीताराम कुंटे और राहत पुनर्वसन विभाग के प्रमुख सचिव असीम कुमार गुप्ता को भी आवश्यक निर्देश दिए। 

बाढ़ से हुए नुकसान का तत्काल हो पंचनामा 

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि बचाव और राहत कार्य में तेजी लाई जाए. राजस्व और कृषि विभाग द्वारा बारिश से हुए नुकसान का तत्काल पंचनामा कर जांच शुरू की जाए. बारिश के कारण कुछ जगहों पर बगीचों को नुकसान पहुंचा है और फसलें बह गई हैं।

छात्रों को एक और मौका दिया जाएगा

बाढ़ के कारण और कई छात्र सीईटी प्रवेश परीक्षा के लिए केंद्र नहीं पहुंच सके। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इन छात्रों को सीईटी परीक्षा में बैठने का एक और मौका दिया जाना चाहिए, ताकि छात्रों को कोई शैक्षणिक नुकसान न हो।

सौ लोगों को बचाया गया 

मुख्यमंत्री ने बताया कि उस्मानाबाद, लातूर, औरंगाबाद और यवतमाल जिले के लगभग 100 लोगों को एनडीआरएफ कर्मियों के साथ-साथ स्थानीय पुलिस द्वारा बचाया गया है। 

उस्मानाबाद से 16 लोगों को हेलीकॉप्टर और 20 लोगों को नाव से बचाया गया। लातूर में 3 लोगों को हेलीकॉप्टर से और 47 लोगों को नाव से बचाया गया।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget