सादगी से हुई डेढ़ दिन के बप्पा की विदाई

घरों के आस-पास ही हुआ अधिकांश मूर्तियों का विसर्जन


मुंबई

लगातार दूसरे साल कोरोना संकट के कारण पाबंदियों के बीच सादगी के साथ मुंबई में गणेशोत्सव का त्योहार मनाया जा रहा है। शुक्रवार को सार्वजनिक गणेश मंडलों एवं लोगों के घरों में विराजे डेढ़ दिन के गणपति का शनिवार को विसर्जन हो गया। रिमझिम बारिश के बीच लोगों ने कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए पूरी श्रद्धा एवं आस्था के साथ शनिवार को डेढ़ दिन के गणपति का विसर्जन किया। मनपा के अनुसार रात 9 बजे तक मुंबई में 29044 मूर्तियों का विसर्जन किया गया। इसमें 232 सार्वजनिक मूर्तियां एवं 28794 घरगुती एवं 18 हरतालिका मूर्तियां शामिल थीं। इसमें से कृत्रिम तालाबों में 165 सार्वजनिक गणेश मंडल की मूर्तियों का विसर्जन किया गया। जबकि 16391 घरगुती व 15 हरतालिका मूर्तियों का विसर्जन कृत्रिम तालाबों में हुआ। शनिवार को दोपहर से ही मोरया रे बाप्पा मोरया.. के उद्घोष के साथ डेढ़ दिन के गणपति की विदायी शुरू हो गई थी। मनपा ने गणपति मूर्तियों के विसर्जन के लिए समुद्र तटों की चौपाटियों, प्राकृतिक विसर्जन स्थलों एवं कृत्रिम तालाबों पर विशेष व्यवस्था की थी। बीएमसी ने सभी 24 वार्डों में मूर्तियों को कलेक्ट करने के लिए डेस्क बनाया था। जहां मनपा कर्मचारी तैनात थे। मनपा ने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लेने वाले लोगों को ही विसर्जन में शामिल होने की अनुमति दी थी, जिससे सार्वजनिक व घरगुती मूर्तियों के विसर्जन में सड़कों पर लोगों का हुजूम नहीं दिखाई दिया। ढोल, तासे एवं डीजे भी ज्यादा देखने को नहीं मिले। 

मुंबई ने राज्य सरकार एवं मनपा द्वारा बनाई गई गाइडलाइन का पालन करते हुए सादगी के मूर्तियों का विसर्जन किया। बता दें कि मनपा ने मुंबई में कुल 246 स्थानों पर मूर्तियों को विसर्जित करने की व्यवस्था की है। शनिवार को 73 प्राकृतिक एवं 173 कृत्रिम विसर्जन स्थलों पर गणेश विसर्जन का सिलसिला दोपहर से ही शुरू हो गया था। विसर्जन का सिलसिला देर रात तक चलता रहा। मनपा के अनुसार रात के 9 बजे तक मुंबई के गिरगांव, दादर,माहिम,जुहू, सहित अन्य चौपाटियों एवं कुर्ला के शीतल तालाब,पवई तालाब,मुलुंड ,भांडुप, चेंबूर के चराई तालाब सहित अन्य विसर्जन स्थलों पर मूर्तियों का विसर्जन किया गया। मनपा एवं मुंबई पुलिस की तरफ से विसर्जन स्थलों पर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये गए थे। विसर्जन के दौरान समुद्र में किसी को हानि न पहुंचे इसको लेकर लाइफगार्ड की तैनाती की गयी है। बता दें कि मनपा ने गणेशोत्सव के दौरान आमलोगों के लिए गाइडलाइन जारी की है, जिसके तहत सार्वजनिक गणेश मंडलों में स्थापित मूर्तियों का ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था करने को कहा गया है। विसर्जन के लिए सार्वजनिक गणेश मंडलों की मूर्तियों के साथ वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके दो लोग व घरगुती मूर्तियों के साथ पांच लोग शामिल हो सकते हैं। 


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget