बरेली के 30 से अधिक गांवों में घुसा बाढ़ का पानी

बरेली

उत्तराखंड में तीन दिन हुई मूसलधार बारिश के बाद जिले में बहेड़ी और मीरगंज क्षेत्र के 30 से अधिक गांवों में पानी घुस गया है। डीएम नितीश कुमार और एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने बाढ़ प्रभावित गांवों का निरीक्षण किया। उन्होंने लोगों से बातचीत कर नुकसान का हाल जाना। इसके साथ ही अधिकारियों को नुकसान का सर्वे कर विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा। बाढ़ से जिले में जनहानि की सूचना नहीं है। उत्तराखंड से निकल रही किच्छा नदी बहेड़ी से जिले की सीमा में प्रवेश करती है और मीरगंज होते हुए आगे रामगंगा में मिल जाती है। पहाड़ों पर तीन दिन हुई तेज बारिश के कारण किच्छा नदी ने ही जिले को सबसे अधिक प्रभावित किया है। नदी का जलस्तर बढ़ने के कारण किनारे से कई गांवों की भूमि को काट दिया है। दोनों तहसील में इस नदी के कारण तीस से अधिक गांव प्रभावित हुए हैं। वहां ग्रामीणों की फसल के साथ ही उनकी संपत्ति को भी नुकसान पहुंचा है। डीएम और एसएसपी ने अधिकारियों के साथ पूरे क्षेत्र का निरीक्षण किया। सबसे पहले बहेड़ी में भारी वर्षा के कारण जल प्रवाह से प्रभावित डूडा शुमाली, कताई मिल, फिरोजपुर समेत अन्य गांवों का जायजा भी लिया। उन्होंने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों से बातचीत की और राहत व बचाव के कार्यों के संबंध में जरूरी निर्देश अफसरों को दिए। डीएम और एसएसपी बहेड़ी के बाद बहगुल और नानकमत्ता के जलाशय को देखने भी गए। उन्होंने वहां पर पानी के स्तर की जानकारी ली। उन्हें बताया गया कि वहां पानी का स्तर लगातार कम हो रहा है। इन जलाशयों का संचालन यूपी सिंचाई विभाग द्वारा किया जाता है। आसपास के गांवों में बाढ़ की स्थिित नहीं थी। डीएम ने संबंधित एसडीएम, तहसीलदार और नायब तहसीलदार को टीमें बनाकर प्रभावित क्षेत्रों में तत्काल भेजने और भारी वर्षा से हुई हानि का आकलन कर शीघ्र रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। ग्रामीणों को होने वाले नुकसान का सही आकलन करने को भी कहा। डीएम और एसएसपी देर शाम मीरगंज के वर्षा से प्रभावित क्षेत्रों में पहुंचे। 


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget