65 कारखानों पर कोई बोलता क्यों नहीं?

जरंडेश्वर चीनी मिल पर उपमुख्यमंत्री ने तोड़ा मौन


मुंबई

जरंडेश्वर चीनी कारखाने को लेकर विपक्ष की तरफ से लगाए जा रहे आरोप पर उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने मौन तोड़ते हुए कहा कि सभी आरोपों को खारिज कर दिया। उन्होंने नीलामी के जरिए बेचे गए या ठेके पर दिए गए 64 चीनी कारखाने और एक सूती मिल की सूची पेश करते हुए कहा कि इनके बारे में कोई भी कुछ नहीं बोलता। विपक्ष का आरोप है कि जरंडेश्वर चीनी कारखानों को बेहद कम कीमत पर खरीदा गया था।  

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि जरंडेश्वर चीनी कारखाने की नीलामी सभी नियमों का पालन करते हुए की गई। उन्होंने दावा किया कि कुछ सरकारी कारखानों को तीन से 10 करोड़ रुपए में बेचा गया, लेकिन कोई भी उनके बारे में बात नहीं करता। पवार ने कहा कि केंद्रीय एजेंसी मामले की जांच कर रही है और तथ्य सामने आएंगे। राज्य की सभी अन्य एजेंसियां जैसे कि एसीबी, सीआईडी और एक न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली जांच समिति ने पहले ही आरोपों की जांच कर ली है। उन्होंने बताया कि जरंडेश्वर चीनी कारखाने की नीलामी बंबई उच्च न्यायालय के आदेशों पर की गई और इसे 65.75 करोड़ रुपए में गुरु कमोडिटी सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड को बेचा गया। उन्होंने कहा कि चूंकि शुगर फैक्टरी बकाया चुकाने में नाकाम रही तो अदालत ने एक साल का वक्त दिया और अगर इस दौरान बकाया नहीं दिया तो उसे नीलाम करने को कहा। पवार ने कहा कि जब शुगर फैक्टरी बकाया नहीं चुका पायी तो महाराष्ट्र स्टेट कोऑपरेटिव बैंक (एमएससीबी) ने एक निविदा निकाली और कई कंपनियों ने दावेदारी की। चूंकि, गुरु कमोडिटी सर्विसेज का 65.75 करोड़ रुपए का दावा सबसे अधिक था तो बैंक ने मिल उस कंपनी को बेच दी। उपमुख्यमंत्री ने दावा किया कि कुछ चीनी मिल के खिलाफ आरोप लगाकर लोगों को गुमराह करने की कोशिश की गई हैं। गौरतलब है कि इस साल जुलाई में ईडी ने धन शोधन रोकथाम कानून के तहत सातारा के धामनगांव-कोरेगांव में जरंडेश्वर एसएसके शुगर मिल की 65 करोड़ रुपए से अधिक की संपत्ति कुर्क की थी। ईडी ने दावा किया कि यह शुगर मिल पवार और उनके परिवार से जुड़ी है।

 ईधन कीमत बढ़ने का जिम्मेदार नहीं

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल के आरोपों के बारे में पूछे जाने पर अजित पवार ने कहा कि राज्य में ईंधन की कीमतें बढ़ने के लिए वह जिम्मेदार नहीं हैं। भाजपा नेता ने आरोप लगाया था कि पवार के ईंधन को जीएसटी के दायरे में लाने का समर्थन न करने के कारण राज्य में ईंधन की कीमतें बढ़ रही हैं। पवार ने कहा कि अगर केंद्र ईंधन पर कर कम कर देता है। तो राज्य सरकार निश्चित तौर पर इसके बारे में सोचेगी।

दौरा रद्द कर अजित पवार पहुंचे मुंबई

दो दिन से पुणे दौर पर गए उपमुख्यमंत्री अजित पवार अचानक अपना दौरा रद्द कर मुंबई आ गए है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और राकांपा अध्यक्ष शरद पवार का फोन जाने के बाद अजित पवार अपना बीच में दौरा रद्द कर मुंबई पहुंचे। उन्हें पुणे के अशोकनगर में स्विमिंग पूल का उद्घाटन करना था लेकिन अचानक फोन आने के बाद उद्घाटन कार्यक्रम रद्द कर वे मुंबई रवाना हो गए।  

शुक्रवार को अजित पवार ने सुबह दस बजे कोरोना समीक्षा बैठक की। उसके बाद उन्होंने पुणे में विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लिया। दौरे का अंतिम कार्यक्रम अशोकनगर में था, लेकिन अचानक फोन आने के बाद तुरंत मुंबई के लिए रवाना होना पड़ा।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget