आतंकियों के खिलाफ एक्‍शन होगा और तेज

बेगुनाहों की हत्‍या को लेकर गृहमंत्री अमित शाह की हाईलेवल मीटिंग


नई दिल्ली

घाटी में आतंकियों की ओर से बेगुनाहों की हत्या के मामलों ने केंद्र सरकार की चिंता बढ़ा दी है। हालात से निपटने और दोषियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई सुनिश्चित करने के लिए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने उच्च बैठक की। इस बैठक में घाटी के मौजूदा हालात की समीक्षा के साथ-साथ उससे निपटने की रणनीति पर विचार विमर्श किया गया। बैठक में अमित शाह के अलावा, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, गृह सचिव अजय भल्ला, आईबी प्रमुख अरविंद कुमार, बीएसएफ के महानिदेशक पंकज सिंह और सीआरपीएफ के महानिदेशक कुलदीप सिंह समेत गृहमंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल रहे।

तत्काल कार्रवाई का निर्देश

उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार बैठक में अमित शाह को जम्मू-कश्मीर के ताजा घटनाक्रम की पूरी जानकारी दी गई। घाटी में आतंकियों ने पिछले सात दिनों में सात निर्दोष नागरिकों की हत्या की है। इसके साथ ही घटना में शामिल आतंकी माड्यूल और उनमें संलिप्त आतंकियों के बारे में खुफिया जानकारी साझा की गई। अमित शाह ने बैठक में साफ कर दिया कि जम्मू-कश्मीर में नए सिरे से भय का माहौल खड़ा करने की आतंकियों के मंसूबे को किसी कीमत पर सफल नहीं होने दिया जाएगा। इसके लिए उन्होंने सभी जरूरी कदम उठाने का निर्देश दिया। उन्होंने साफ कर दिया कि जम्मू-कश्मीर में आतंकियों और उन्हें संरक्षण देने वालों के खिलाफ कार्रवाई के सुरक्षा एजेंसियों को खुली छूट है।

रोकी जाएगी सीमा पार से ड्रोन से हथियार गिराने की कोशिश

बताया जाता है आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई और निर्दोष लोगों की हत्या को रोकने के लिए नई रणनीति पर भी चर्चा हुई। आतंकियों के ताजा हमलों के अलावा बैठक में सीमा पार से घुसपैठ, ड्रोन से हथियारों और ड्रग की सप्लाई और आतंकी फंडिंग रोकने के लिए उठाए गए कदमों की भी समीक्षा की गई।

हताश आतंकी बना रहे हैं निर्दोष और निहत्थे नागरिकों को निशाना

सुरक्षा एजेंसियों का कहना था कि पिछले दो-तीन साल में उठाए गए कदमों से आतंकियों का मनोबल काफी नीचे है। बड़ी वारदात को अंजाम देने की उनकी तमाम कोशिशें विफल रही हैं। ऐसे में हताशा में वे निर्दोष और निहत्थे नागरिकों को निशाना बनाकर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने और घाटी में असुरक्षा का माहौल बनाए रखने की कोशिश कर रहे हैं। सुरक्षा एजेंसियों का कहना था कि आतंकी संगठन में शामिल होने वाले स्थानीय युवाओं की संख्या में भी भारी कमी देखी गई है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget