सरकार के भ्रष्टाचार को जनता के सामने लाएगी पार्टी

भाजपा प्रदेश कोर कमेटी की बैठक


मुंबई

आगामी चुनाव को देखते हुए भाजपा जोरशोर से तैयारी में जुट गई है। इसी के तहत मंगलवार को विपक्ष नेता देवेंद्र फड़नवीस के अध्यक्षता में उनके सरकारी आवास सागर बंगले पर भाजपा प्रदेश कोर कमिटी की बैठक हुई। बैठक में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटील सहित कई सदस्य उपस्थित थे। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भाजपा प्रदेश की कोर कमेटी की बैठक में राज्य के मौजूदा राजनीतिक हालात के साथ कई अन्य मुद्दों पर चर्चा की गई, 2022 में मुंबई मनपा सहित कई मनपा और नपा के होने वाले चुनाव में  महाविकास आघाड़ी को कैसे मात दिया जाए इसको लेकर चर्चा हुई। बैठक में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और प्रदेश के प्रभारी सी टी रवि, सह प्रभारी ,महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल एवं नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फड़नवीस, विधान परिषद में विपक्ष के नेता प्रवीण दारेकर, गिरीश महाजन, श्रीकांत भारतीय, पूर्व मंत्री सुधीर मुनगंटीवार, मुंबई अध्यक्ष मंगल प्रभात लोढ़ा सहित सभी सदस्य मौजूद थे। बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत करते हुए पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक आशीष शेलार ने कहा कि महाविकास आघाड़ी के कुकृत्य और भ्रष्टाचार को लेकर एक पेपर निकाला जाएगा और उसे जनता के समक्ष रखा जाएगा, उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार के बारे में बदनामी करने की सुनियोजित साजिश तीनों दल मिलकर कर रहे हैं। इसका भंडाफोड़ हम जनता के सामने करेंगे। अपनी झूठी कल्पना से खुद को  विजयी बताने का जो वे प्रयास कर रहे हैं, वह कभी सफल नहीं होगा।

'कभी महसूस नहीं हुआ कि मैं अब मुख्यमंत्री नहीं हूं'

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता देवेंद्र फड़नवीस ने मंगलवार को कहा कि लोगों के प्यार के कारण उन्हें कभी ऐसा नहीं लगा कि वह अब महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री नहीं हैं। नवी मुंबई में एक कार्यक्रम में फड़नवीस ने कहा, “लोगों ने मुझे कभी यह महसूस नहीं होने दिया कि मैं मुख्यमंत्री नहीं हूं। मुझे अब भी लगता है कि मैं मुख्यमंत्री हूं। मैं पिछले दो साल से राज्य में घूम रहा हूं और लोगों का प्यार और स्नेह कम नहीं हुआ है।” उन्होंने कहा कि व्यक्ति का कार्य उसके पद से अधिक महत्वपूर्ण होता है। फड़नवीस ने कहा, “मैं घर पर नहीं बैठा। मैं लोगों की सेवा कर रहा हूं और (विधानसभा में) विपक्ष के नेता के रूप में अच्छा काम कर रहा हूं।” विधानसभा के 2014 के चुनाव के बाद फड़नवीस मुख्यमंत्री बने और उन्होंने अपना कार्यकाल पूरा किया, जो पिछले तीन दशकों में राज्य के किसी भी मुख्यमंत्री ने नहीं किया था। 2019 के विधानसभा चुनाव के बाद शिवसेना ने भाजपा के साथ गठबंधन तोड़ दिया और अलग हो गई। इसके बाद फड़नवीस ने अजीत पवार के नेतृत्व वाले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) विधायकों के समूह के साथ गठबंधन किया और मुख्यमंत्री पद की शपथ ली तथा पवार उपमुख्यमंत्री बने। मगर उनकी सरकार सिर्फ तीन दिन चली, जिसके बाद उद्धव ठाकरे की अगुवाई में शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की सरकार बनी।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget