हम देश की संस्कृति और सनातन धर्म का करते हैं समर्थन : शाह


हरिद्वार

 केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करते हैं, जो हमारे देश की संस्कृति और सनातन धर्म को प्रोत्साहित करती हैं। पिछले 50 वर्षों की अवधि में, 'हम सुधरेंगे तो युग बदलेगा वाक्य द्वारा लाए गए परिवर्तन को देख सकते हैं। अमित शाह ने ये बातें हरिद्वार स्थित गायत्री तीर्थ शांतिकुंज के स्वर्ण जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में व्याख्यान माला का आयोजन पर कहीं। गायत्री तीर्थ शांतिकुंज के स्वर्ण जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में व्याख्यान माला का आयोजन किया गया। शनिवार को इस व्याख्यानमाला के मुख्य वक्ता केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान एजुकेशन सिस्टम हमें बौद्धिक विकास और विचार दे सकता है पर यहां में आध्यात्मिक शांति नहीं दे सकता। आध्यात्मिक शांति के लिए देव संस्कृति विश्वविद्यालय जैसे विश्वविद्यालयों की आवश्यकता है, जो भारतीय सांस्कृतिक धार्मिक परंपरा और आधुनिक शिक्षा के समायोजन से मजबूत विचारशील सांस्कृतिक शिक्षा प्रदान कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि गायत्री मंत्र के विधि सम्मत तरीके से नियमित लगातार उच्चारण करने से मनुष्य, देवत्व को प्राप्त करता है। यही एकमात्र रास्ता है, जो मानव को महामानव बनाता है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि व्यक्ति में संयम और करुणा दोनों का समावेश अवश्य होना चाहिए और उसके मन में पर पीड़ा के प्रति संवेदना भी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें स्व की भावना छोड़कर हम पर सोचना और कर्म करना चाहिए। गृह मंत्री अमित शाह ने नागरिक कर्तव्यों के पालन का आवाहन करते हुए कहा कि संविधान प्रदत्त अधिकारों के लिए देश में आंदोलन तो बहुत होते हैं पर, उसी संविधान में दर्ज कर्तव्यों के पालन के लिए ना तो हम कोई आंदोलन करते हैं और ना ही उसका पालन करते हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा विरोधाभास नहीं होना चाहिए जब हम ऐसा कर सकेंगे तभी देश को महान बना सकेंगे। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश एक बड़े बदलाव से गुजर रहा है। यह बदलाव आर्थिक सामाजिक तो है ही साथ में शैक्षिक और आध्यात्मिक भी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजन और दर्शन के बाद भभूत लगाकर गंगा तट पर गंगा आरती कर इस बदलाव का शुभारंभ किया था। देश जिसे अब देख रहा है, उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति देश की मिट्टी की सुगंध वाली शिक्षा नीति है, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों और नेतृत्व में स्थापित किया गया है। यह देश में बहुत बड़े बदलाव का बीज बोया गया है, जो आगे चलकर वटवृक्ष बनेगा।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget