आयुष्मान भारत ने आमजन को दिखाई नई राह : सीएम योगी

लखनऊ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को लोक भवन में अंत्योदय राशन कार्ड धारकों को बड़ा तोहफा दिया। मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान के अंतर्गत अंत्योदय राशन कार्ड धारकों को आयुष्मान कार्ड वितरण करने के साथ ही प्रदेश के कोविड प्रबंधन पर आइर्आईटी कानपुर प्रकाशित पुस्तक का विमोचन किया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस अवसर पर कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आयुष्मान भारत योजना ने आमजन के मन में जागरूकता के साथ-साथ जीने की एक नई राह दिखाई है। हम आभारी हैं प्रधानमंत्री के, जिन्होंने इस योजना के अंतर्गत पात्र नागरिकों को सरकारी एवं सूचीबद्ध निजी अस्पतालों में प्रतिवर्ष पांच लाख तक का इलाज मुफ्त कराने की सुविधा दी है। इससे 40 लाख परिवारों को लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि इस अवसर पर समस्त आच्छादित नागरिकों व आने वाले समय में आच्छादित होने वाले लोगों को मैं हृदय से बधाई व शुभकामनाएं देता हूं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का सपना है कि देश के प्रत्येक व्यक्ति को पांच लाख रुपए की स्वास्थ्य बीमा का कवर मिले। देश की सबसे बड़ी आबादी का राज्य उत्तर प्रदेश उनके इस लक्ष्य की प्राप्ति के मार्ग पर तेजी से बढ़ रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के 40 लाख से अधिक परिवारों को यह सुविधा उपलब्ध हो रही है, जिसमें एक करोड़ से अधिक लोग लाभान्वित होंगे। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि निवासी हो या प्रवासी उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश के समस्त श्रमिकों को दो लाख का सामाजिक सुरक्षा बीमा एवं पांच लाख का स्वास्थ्य बीमा का कवर दिया है। प्रदेश के 40 लाख से अधिक अंत्योदय परिवार जो प्रधानमंत्री जन आरोग्य यानि आयुष्मान भारत योजना से आच्छादित नहीं हो रहे थे, आज उन्हें मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत लाने का कार्यक्रम चल रहा है। इससे प्रदेश की एक बड़ी आबादी लाभान्वित होगी। उत्तर प्रदेश सरकार के कोविड प्रबंधन पर आईआईटी कानपुर की टीम ने शोध पत्र जारी किया है। इस शोध पत्र में यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार की जमकर तारीफ की गई है। कानपुर आईआईटी ने इस मॉडल डीटेल स्टडी रिपोर्ट प्रकाशित की है। आइआइटी कानपुर के प्रो. मनिंद्र अग्रवाल और उनकी टीम ने इस यूपी मॉडल के बारे में विस्तार से बताया है। उन्होंने बताया कि इस यूपी मॉडल का उद्देश्‍य था। पहला, सभी नागरिकों की खास देखभाल की जाए और प्रवासी मजदूरों पर इसका कोई प्रतिकूल प्रभाव न पड़े। दूसरा, महामारी का मुकाबला करने के साथ साथ आर्थिक विकास को बनाए रखें। तीसरा, मास स्प्रेड से बचते हुए सारे एहतियात बरतें और अपने साथ-साथ दूसरों की भी जान बचाएं। चौथा, महामारी के बढ़ते भार से लड़ने के लिए अपनी क्षमता बढ़ाएं। प्रवासी और सीमांत आबादी की नौकरी, परिवहन और आजीविका के लिए यूपी सरकार ने कई कदम उठाए हैं। जैसे लौटने वाले श्रमिकों के लिए फ्री बस सेवा, भारतीय रेलवे के साथ साझेदारी में श्रमिक ट्रेनें और बीमार श्रमिकों के लिए एंबुलेंस सेवाएं शुरू करना।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget