आतंकियों को भारी पड़ा नागरिकों पर हमला

जैश का टॉप कमांडर शमा सोफी ढेर


जम्मू-कश्मीर

जम्मू-कश्मीर में अवंतीपोरा के त्राल इलाके के तिलवानी मोहल्ला में हुई मुठभेड़ के दौरान सुरक्षाकर्मियों ने एक आतंकवादी को ढेर कर दिया। मिली जानकारी के मुताबिक, आईजीपी कश्मीर विजय कुमार ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि अवंतीपोरा के त्राल मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद का टॉप कमांडर आतंकवादी शाम सोफी मारा गया है।

उल्लेखनीय है कि राजौरी और पुंछ में सेना और पुलिस का आतंकियों के खिलाफ तलाशी अभियान लगातार तीसरे दिन भी जारी रही। सेना के सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि 4 से 5 आतंकियों का ग्रुप ऊंची पहाड़ी और जंगल का फायदा उठाकर लगातार अपने ठिकाने बदल रहा है। सेना और पुलिस के सैकड़ो जवान पुंछ के डेरा की गली से लेकर थन्ना मण्डी तक इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान चला रहे हैं।

इससे पहले शोपियां में सोमवार और मंगलवार को सुरक्षाबलों ने ऑपरेशन में पांच आतंकियों को मार गिराया। शोपियां जिले के तुलरान और फेरीपोरा इलाके में हुए इन ऑपरेशन में सीआरपीएफ की 178 बटैलियन, राष्ट्रीय राइफल्स और जम्मू कश्मीर पुलिस के जवान शामिल रहे। शोपियां में एक मुठभेड़ तुलरान इलाके में हुई, जिसमें लश्कर वाले टीआरएफ संगठन के तीन आतंकियों को ढेर किया गया।

इनमें से एक आतंकी की पहचान मुख्तार शाह के तौर पर हुई, जो गांदरबल का रहने वाला था और श्रीनगर में रेहड़ीवाले वीरेंद्र पासवान की हत्या में शामिल था। हमले के बाद आतंकी भागकर शोपियां में आया था। इसके अलावा दूसरा एनकाउंटर शोपियां के फेरीपोरा इलाके में हुआ। यहां दो आतंकी मारे गए। पिछले 36 घंटे में सुरक्षाबलों ने सात आतंकियों को ढेर किया।

BSF को गिरफ्तारी सर्च ऑपरेशन का अधिकार मिला 

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बुधवार को सीमा सुरक्षा बल यानी बीएसएफ को लेकर बड़ा फैसला किया है। बीएसएफ का अधिकार क्षेत्र बढ़ाते हुए अब अधिकारियों को गिरफ्तारी, तलाशी और जब्ती की शक्तियां भी दे दी गई हैं। ये अधिकार बीएसएफ को भारत-पाकिस्तान और भारत-बांग्लादेश के बीच अंतरराष्ट्रीय सीमा के 50 किलोमीटर के दायरे में दिया गया है। आसान शब्दों में अब मैजिस्ट्रेट के आदेश और वॉरंट के बिना भी बीएसएफ इस अधिकार क्षेत्र के अंदर गिरफ्तारी और तलाशी कर सकती है। 

विवाद पैदा होने की आशंका

गृह मंत्रालय के नए आदेश से राजनीतिक विवाद पैदा होने की आशंका है। दरअसल, अभी तक बीएएसफ को पंजाब, पश्चिम बंगाल और असम में पहले 15 किलोमीटर के दायरे में सर्च और अरेस्ट करने का अधिकार था, जिसे अब बढ़ाकर 50 किलोमीटर तक कर दिया गया है। हालांकि गुजरात में बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र को कम किया गया है और सीमा का विस्तार 80 किमी से कम होकर 50 किमी हो गया है, जबकि राजस्थान में दायरा क्षेत्र पहले की तरह ही 50 किलोमीटर रखा गया है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget