ऑडिट कंपनी पर दो साल का बैन


नई दिल्ली

भारतीय रिजर्व बैंक ने मंगलवार को ऑडिट कंपनी हरिभक्ति एंड कंपनी एलएलपी पर दो साल का बैन लगा दिया है। आरबीआई के मुताबिक वैधानिक ऑडिट के संबंध में जारी एक विशिष्ट निर्देश का पालन न करने की वजह से कंपनी के खिलाफ यह कार्रवाई की गई है। पहली बार है कि रिजर्व बैंक ने किसी व्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण एनबीएफसी के ऑडिटर के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई की है। आरबीआई के बयान के मुताबिक, भारतीय रिजर्व बैंक ने रिजर्व बैंक अधिनियम, 1934 की धारा 45 एमएए के तहत निहित शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए, 23 सितंबर 2021 के एक आदेश द्वारा, मेसर्स हरिभक्ति एंड कंपनी एलएलपी, चार्टर्ड एकाउंटेंट्स (आईसीएआई कंपनी पंजीकरण संख्या 103523 डब्ल्यू/डब्ल्यू 100048) को एक अप्रैल 2022 से दो साल की अवधि के लिए केंद्रीय बैंक द्वारा विनियमित किसी भी इकाई में किसी भी प्रकार का ऑडिट संबंधी काम करने से प्रतिबंधित कर दिया है। हालांकि यह वित्तीय वर्ष 2021-22 में केंद्रीय बैंक द्वारा विनियमित संस्थाओं में हरिभक्ति एंड कंपनी एलएलपी के ऑडिट संबंधी काम को प्रभावित नहीं करेगा।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget