कचरे की दुर्गंध से लोग परेशान

मुंबई

मानसून के जाते ही अक्टूबर हीट शुरू हो गया है, जिससे लोग परेशान होने लगे हैं। बढ़ते तापमान से कांजूरमार्ग स्थित डंपिंग ग्राउंड से निकलने वाली दुर्गंध ने परिसर के लोगों को परेशान कर दिया है। लोगों को आशंका है कि अगर समय रहते प्रशासन ने इसे रोकने का प्रयास नहीं किया तो अस्थमा और स्वसन संबंधी बीमारियां बढ़ेंगी, जिससे मरीजों की जानें भी जा सकती हैं। 

बता दें कि देवनार डंपिंग ग्राउंड का भार कम करने के लिए कांजूरमार्ग डंपिंग ग्राउंड पर कचरे की डंपिंग बढ़ा दी गई है। कांजूरमार्ग डंपिंग ग्राउंड में जमा कचरे की प्रोसेसिंग नहीं हो पा रही है। जिसके चलते कांजूरमार्ग,भांडुप,विक्रोली यहां तक कि चेंबूर तक दुर्गंध महसूस किया जा रहा है। स्थानीय लोगों का कहना है कि दिन में दो-तीन बार तेजी से दुर्गंध फैलती है। मुंबई में रोजाना पांच से छह हजार मैट्रिक टन कचरा निकलता है। कांजूरमार्ग डंपिंग ग्राउंड पर लगभग साढ़े चार हजार मैट्रिक टन कचरा डंप किया जा रहा है। हालांकि यहां बायोरिएक्टर पद्धति से कचरे पर प्रक्रिया की जा रही है।

बारिश के बाद बढ़ी गर्मी का असर

लोगों का यह भी मानना है कि बारिश बंद होने के बाद तेज धूप से कचरे के सड़ने का प्रमाण बढ़ा होगा जिससे कचरे की दुर्गंध भी बढ़ी है।

इससे हवाओं के माध्यम से विक्रोली, भांडुप, चेंबूर तक कचरे की दुर्गंध बढ़ गई है। मनपा उपायुक्त संगीता हसनाले ने कहा कि स्थानीय लोगों की शिकायत उनके पास आ रही है। कचरे का निपटारा करने का प्रमाण बढ़ाया गया है। प्रक्रिया में कुछ गलतियों के कारण ऐसा हो रहा है। जल्द ही समस्या का समाधान किया जाएगा।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget