अगले तीन महीने तक शुरू रहेंगे जंबो कोविड सेंटर

मुंबई 

कोरोना महामारी पर भले ही अंकुश लग चुका है, लेकिन मुंबई मनपा सावधानी बरतने में जरा भी कोताही नहीं बरत रही है। मनपा का खुद का मानना है कि तीसरी लहर नहीं आएगी, इसके बावजूद कोरोना से निपटने की तैयारी अभी आगे जारी रखने का निर्णय लिया है। तीसरी लहर से निपटने के लिए मनपा ने बीकेसी, दहीसर, सोमैया, कांजुरमार्ग व मालाड में जंबो कोविड सेंटर शुरू रखने का निणर्य लिया है। इन कोविड सेंटर  में 748 आईसीयू और 4099 ऑक्सिजन बेड आगे भी शुरू रखने का निणर्य लिया  है। मनपा ने इन पांचों जंबो कोविड सेंटर में आईसीयू, ऑक्सिजन व नॉन ऑक्सिजन बेड के तीन महीने के परिचालन व देखरेख के लिए104 करोड़ 91 लाख  रुपए खर्च करने का निर्णय लिया है। यह खर्च अगले तीन महीनों के लिए होगा।

 मुंबई में कोरोना की दो लहरों से निपटने में मनपा सफल रही है। 15 अगस्त के बाद मुंबई में कई प्रतिबंधों में छूट दी गई, जिससे बाजारों, समुद्र तटों व रेलवे स्टेशनों पर भीड़ बढ़ी है। इससे मुंबई में लगातार कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। एक समय कोरोना मरीजों की संख्या 200 से नीचे पहुंच गई थी। लेकिन अब कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ कर लगभग 400 से 500 के बीच प्रतिदिन पहुंच गई है। जिससे मनपा एलर्ट मोड पर है। अचानक कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने से कोई समस्या न पैदा हो इससे निपटने के लिए मनपा पूरी तरह से तैयार है। मनपा अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी ने कहा है कि दिसंबर में कोरोना की स्थिति देखने के बाद ही जंबो कोविड सेंटर व बेड के बारे में निर्णय लिया जाएगा। सुरेश काकानी ने बताया कि अभी मुंबई में दहिसर, नेस्को, बीकेसी, वर्ली , मुलुंड व भायखला सहित कुल 6 जंबो कोविड सेंटर एक्टिव हैं। इन जंबो कोविड सेंटर में उपलब्ध 16 हजार बेड में से 1700 पर ही मरीजों का इलाज चल रहा है, जो कुल बेड क्षमता का सिर्फ 11 प्रतिशत है। इसके अलावा मालाड व कांजुरमार्ग सेंटर  मनपा के कब्जे में हैं , जल्द ही सायन में भी एक जंबो सेंटर तैयार किया गया है । जिससे इलाज के लिए और बेड उपलब्ध हो जाएंगे।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget