मुंबई बंद, रफ्तार मंद


मुंबई 

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में हिंसा में चार किसानों की मौत के विरोध में महाविकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार के तीन सहयोगी दलों के आह्वान पर महाराष्ट्र बंद का असर देखने को मिला। बंद के चलते मुंबई में सोमवार को दुकानें और वाणिज्यिक संस्थान बंद रहे और बेस्ट बसें डिपो से निकल नहीं पाईं। हालांकि कुछ स्थानों पर व्यापारियों ने आधी शटर खोलकर अपना काम धंधा जारी रखा। सुबह के वक्त डिपो से निकली बेस्ट बसों पर आंदोलनकारियों ने पथराव किया। बेस्ट की कुल 9 बसों को खासा नुकसान पहुंचा। बेस्ट की बसें उपलब्ध नहीं होने से मुसाफिरों को ऑटो और टैक्सी का सहारा लेना पड़ा, हालांकि इनके आवागमन में लगातार बाधा खड़ी की गई। रेल और मेट्रो ट्रेन का यातायात आम दिनों की तरह चलता रहा। बेस्ट ने दावा कि शाम पांच बजे के बाद 1008 बसें सड़कों पर निकली। बंद से अत्यावश्यक सेवाओं को छूट दी गई थी। इधर बंद को लेकर विपक्षी दल भाजपा ने महाविकास आघाड़ी पर जमकर निशाना साधा। शहर में बंद के मद्देनजर बड़ी संख्या में पुलिस बलों को तैनात किया गया है। इसके अलावा अतिरिक्त यातायात पुलिसकर्मी भी तैनात किए गए।

ऑटो-टैक्सी ड्राइवर भी रहे परेशान

बंद के दौरान ऑटो-टैक्सी चालकों को भी राजनीतिक दलों के नेताओं से दो-चार होना पड़ा। शिवाजी पार्क, दादर में एक टैक्सी की चाबी निकाल ली गई। इसके बाद चालक को टैक्सी छोड़कर जाना पड़ा। अब समस्या यह है कि चाबी लेकर जाने वाले कार्यकर्ताओं की तलाश कैसे की जाए? बंद के दौरान टैक्सी और ऑटो ने चलने की कोशिश की, लेकिन नेताओं की जोर जबदस्ती के कारण उन्हें मजबूरन अपना काम धंधा बंद करना पड़ा। कुछ चालकों ने समय का फायदा उठाकर यात्रियों से ज्यादा किराया भी वसूल किया। ठाणे में बंद के दौरान स्थानीय शिवसैनिकों के एक रिक्शा चालक से मारपीट का वीडियो सामने आया है।

हुतात्मा चौक पर एनसीपी का आंदोलन

राष्ट्रवादी कांग्रेस की तरफ से हुतात्मा चौक में आंदोलन किया गया। आंदोलनकारियों ने काली पट्टी बांधकर केंद्र सरकार का विरोध किया। प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल, सांसद सुप्रिया सुले और मुख्य प्रवक्ता नवाब मलिक की उपस्थिति में कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी की। पाटिल ने कहा कि लखीमपुर में जानबूझकर किसानों की हत्या की गई। इसकी तुलना केवल जलियांवाला बाग हत्याकांड से हो सकती है। सुप्रिया सुले ने कहा कि  भाजपा पर सत्ता की मस्ती है। केंद्र सरकार को जनता और किसानों को न्याय देना चाहिए।  

11 बेस्ट बसें क्षतिग्रस्त

सोमवार सुबह धारावी, मानखुर्द, शिवाजी नगर, चारकोप, ओशीवरा, देवनार और इनऑर्बिट मॉल के पास 11 बसें क्षतिग्रस्त हो गईं, जिनमें पट्टे पर किराए पर ली गई एक बस शामिल है। इससे बेस्ट को तकरीबन दो करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ेगा। शिवसेना की यूनियन होने के कारण बेस्ट को बंद में शामिल किया गया। सोमवार सुबह कर्मचारियों को घर से लाने के लिए निकली बसों को निशाना बनाया गया। कर्मचारियों को घर से लाने में विफल रहे बेस्ट प्रशासन ने दोपहर में पुलिस सुरक्षा में बसें चलाने की घोषणा की, लेकिन कर्मचारियों की कमी की वजह से बसें डिपो में खड़ी रही। बेस्ट की बसें बंद होने से यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा और उन्हें टैक्सी और ऑटो का सहारा लेना पड़ा  

नियम तोड़ने वालों पर कार्रवाई

मुंबई पुलिस के प्रवक्ता डीसीपी चैतन्य एस ने बताया कि मुंबई के कांदिवली, समता नगर में दो एफआईआर और धारावी, मानखुर्द, शिवाजी नगर में एक-एक एनसी दर्ज हुई है। जबकि मुंबई पुलिस एक्ट के तहत नागपाड़ा, भायखला, वर्ली, दादर, माहिम, धारावी, खेरवाड़ी, कांदिवली, कुरार, कस्तुरबा और समता नगर इलाके में 200 से भी अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है। पुलिस ने हर कोशिश की कि सड़कों पर कोई उत्पात न मचा सके। 


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget