मुख्‍यमंत्री नहीं बनना चाहते थे उद्धव

पवार बोलेः मैंने ही किया था उनको तैयार  ।  पूर्व सीएम दिखाएं वसूली की ​चिप


राकांपा प्रमुख शरद पवार ने राज्‍य के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे का बचाव करते हुए कहा कि वे मुख्‍यमंत्री नहीं बनना चाहते थे, मैंने ही उनका नाम घोषित किया था, जिसका महाविकास आघाड़ी के तीनों दलों ने स्‍वागत किया था। वे पूर्व मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस के आरोपों पर पूछे गए सवालों का जवाब दे रहे थे।

फड़नवीस ने शुक्रवार को शिवसेना की दशहरा रैली में मुख्‍यमंत्री के हमले के जवाब देते हुए कहा कि उद्धव ठाकरे कह रहे हैं कि उन्‍होंने अपने पिता बाला साहेब ठाकरे को वचन दिया था कि वे किसी शिवसैनिक को राज्‍य का मुख्‍यमंत्री बनाएंगे तो वे खुद मुख्‍यमंत्री क्‍यों बन गए? इस आरोप पर  पिंपरी-चिं‍चवड में पत्रकारों से बातचीत करते हुए पवार ने कहा कि उनका फड़नवीस से निवेदन हैं कि इस तरह की बातें न करें। पवार ने कहा कि उद्धव ठाकरे की मुख्यमंत्री बनने की इच्छा नहीं थी। मैंने ही उनका नाम घोषित किया, जिसका महाविकास आघाड़ी के तीनों दलों ने स्वागत किया था। पवार ने कहा है कि जब राज्य में सरकार बनाने को लेकर चर्चा चल रही थी कि नेतृत्व कौन करेगा। उस वक्त मैंने उद्धव ठाकरे का हाथ ऊपर किया। उस वक्त उनका ध्यान भी नहीं था और मुख्यमंत्री बनने का मन भी नहीं था। जब मैंने कहा कि उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री होंगे तो वहां मौजूद सभी लोगों ने ताली बजा कर इसका स्वागत किया। पवार ने कहा कि फड़नवीस को उद्धव ठाकरे के बारे में बहुत कुछ मालूम है।

महाराष्ट्र को बंगाल नहीं बनने देंगे का क्या अर्थ?

फड़नवीस के वसूली के आरोपों पर पवार ने कहा कि वे वसूली की चीप अथवा साफ्टवेयर दिखाए। यह चीप कैसी होती है और इससे वसूली कैसी होती है, उनके यह बताने पर हमारा ज्ञान बढ़ेगा। वे मुख्यमंत्री रह चुके हैं। इस पद का एक मान सम्मान है। लेकिन वे इस सम्मान को नुकसान पहुंचा रहे हैं। पवार ने कहा कि महाराष्ट्र का बंगाल के साथ एक नाता है। इसका एक विस्तृत इतिहास है। फड़नवीस कह रहे हैं कि मैं महाराष्ट्र को बंगाल नहीं बनने दूंगा। उनका कहने का अर्थ क्या है।

सरकार नहीं गिरने से भाजपा परेशान

उन्‍होंने राकांपा प्रवक्‍ता नवाब मलिक का बचाव करते हुए कहा कि एनसीबी ने कार्रवाई में अपराधियों का इस्तेमाल किया है। उन्होंने कहा कि मलिक केंद्र के खिलाफ बोलते हैं, इसलिए उन पर दबाव डालने के लिए उनके रिश्तेदार को गिरफ्तार किया गया। मलिक के दामाद को गांजा रखने के आरोप में गिरफ्तार किया था पर बाद में पता चला कि वह गांजा नहीं एक वनस्पति थी। उन्‍होंने कहा कि महाविकास आघाड़ी सरकार गिर नहीं रही है, इस वजह से  भाजपा परेशान है।

नेतृत्व शिवसेना के पास ही रहेगा  

यह पूछे जाने पर कि उद्धव ठाकरे के बाद अजित पवार के मुख्‍यमंत्री बनने की संभावनाओं की वजह से उन्‍हें निशाना बनाया जा रहा है। इस सवाल पर पवार ने कहा कि महाविकास आघाड़ी की सरकार बनने के वक्‍त सरकार का नेतृत्‍व शिवसेना के पास रहेगा, यह बात तीनों दल ने स्‍वीकार की है। ऐसे में किसी दूसरे व्‍यक्ति के इस जगह पर आने का विषय ही नहीं है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget