आईपीएस ईशा सिंह का हुआ सम्मान

करणी सेना की महिला शाखा का आयोजन


मुंबई

मानवाधिकार कार्यकर्ता और अधिवक्ता आभा वाईपी सिंह की पुत्री ईशा सिंह के आईपीएस बनने पर करणी सेना की महिला शाखा द्वारा सम्मानित किया गया। संघ लोक सेवा आयोग आयोग द्वारा आयोजित परीक्षा 2020 में सफल ईशा सिंह ने अपनी पढ़ाई लखनऊ व मुंबई के जेबी पेटिट एंड कैथ्रेडल स्कूल से की हैं। इसके अलावा उन्होंने नेशनल लॉ स्कूल से एलएलबी किया है। ईशा सिंह के पिता वाईपी सिंह भी 1985 बैच के आईपीएस रह चुके हैं। वाईपी सिंह जौनपुर जनपद के मड़ियाहूं तहसील के रामनगर विकास खंड स्थित जवंशीपुर गांव के मूल निवासी हैं।

गौरतलब हो कि वाई पी सिंह पुलिस विभाग में फैले भ्रष्टाचार पर एक फिल्म बना चुके हैं। वाईपी सिंह पुलिस विभाग में फैले भ्रष्टाचार के ऊपर बनी फिल्म “क्या यही सच है” का निर्देशन कर चुके हैं, जिसे फिल्म इंटरनेशनल अवार्ड भी मिला है। आभा सिंह इंडियन पोस्टल सर्विस की नौकरी छोड़कर वकालत के पेशे में आ गई हैं। ईशा सिंह के मामा राजेश्वर सिंह प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के चर्चित अधिकारी हैं। ईशा सिंह की माता आभा सिंह सुल्तानपुर के पखरौली निवासी आईपीएस रण बहादुर सिंह की चार संतानों में दूसरे नंबर की हैं। सबसे बड़े रामेश्वर सिंह इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में हैं। उसके बाद मीनाक्षी सिंह भी इनकम टैक्स में हैं। इस अवसर पर Òहमारा महानगरÓ की निदेशिका गीता सिंह, रीता सिंह ठाकुर, ईशा सिंह, रश्मि सिंह, सुनीता ठाकुर, आभा सिंह, भारती सिंह, कुमकुम ठाकुर, सुमिता सुमन सिंह, इशिका सिंह, मालती सिंह आदि उपस्थित थीं।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget