नई पार्टी बनाने में जुटे कैप्टन

कांग्रेस में खलबली


जालंधर

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह जल्द ही नई राजनीतिक पार्टी बना सकते हैं। इस पार्टी का नाम पंजाब विकास पार्टी (PVP) होगा। पार्टी की घोषणा से पहले अमरिंदर ने अपने करीबी नेताओं से संपर्क साध लिया है। इस पार्टी में नवजोत सिंह सिद्धू के विरोधियों को भी शामिल किया जाएगा।

अमरिंदर ने सीएम की कुर्सी छोड़ने के बाद सिद्धू पर बड़ा हमला किया था। कैप्टन ने कहा था कि वो सिद्धू को किसी भी कीमत पर जीतने नहीं देंगे। सिद्धू के खिलाफ मजबूत कैंडिडेट खड़ा करेंगे। इससे अंदाजा लगाया जा रहा था कि कैप्टन जल्द कोई नई पार्टी बनाएंगे।

अभी करीबियों को मिलाएंगे, बाद में नाराज नेता भी होंगे शामिल

सूत्रों के मुताबिक, फिलहाल अमरिंदर अपने करीबी नेताओं से मिलकर यह पार्टी बना रहे हैं। इसमें मंत्रिमंडल से बाहर हुए करीबी मंत्रियों के साथ संगठन से किनारे किए नेता शामिल होंगे। इसके बाद इसमें सिद्धू से नाराज नेता मिलाए जाएंगे। अंत में चुनाव के नजदीक आने पर कैप्टन के करीबी कांग्रेसियों की टिकट कटनी तय है। तब बाकी दावेदारों को पार्टी में शामिल कर मजबूत किया जाएगा। कैप्टन पूरी तरह से कांग्रेस को ही झटका देने के मूड में हैं। अमरिंदर और सिद्धू के बीच छिड़े सियासी घमासान को लेकर कांग्रेस बुरी तरह आहत है और वह कैप्टन की बगावत के कारण भारी नुकसान होते देख रही है। 

अमरिंदर सिंह ने प्रदेश कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत पर पलटवार किया। उन्होंने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू को तानाशाही की इजाजत क्यों मिली? कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि पंजाब में कांग्रेस की स्थिति काफी ज्यादा दयनीय है। उन्होंने कहा कि सिद्धू पार्टी आलाकमान पर दबाव बनाते हैं और उन्हें ज्यादा छूट दी गई है। कुछ महीनों से मुझ पर वफादारी का दबाव था। उन्होंने कहा कि आलोचक भी मेरी ईमानदारी पर सवाल नहीं खड़ा कर सकते हैं। इसी बीच उन्होंने हरीश रावत की फोन नहीं उठाने वाली बात को बकवास बताया।

हरीश रावत ने किया था प्रहार 

हरीश रावत ने कहा था कि रिपोर्टों में कोई तथ्य नहीं है कि कांग्रेस ने कैप्टन अमरिंदर सिंह का अपमान किया है। कैप्टन के हालिया बयानों से लगता है कि वह किसी के दबाव में हैं। उन्हें पुनर्विचार करना चाहिए और प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से भाजपा की मदद नहीं करनी चाहिए। 


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget