काफी जटिल और संवेदनशील मामला है अफगानिस्तान से उड़ानों की बहाली


नई दिल्ली

जम्मू और कश्मीर में हाल के आतंकवादी हमलों पर विदेश मंत्रालय की प्रेस काफ्रेंस में प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि हम ऐसे हमलों की कड़ी निंदा करते हैं। हम सीमा पार आतंकवाद के बारे में चिंतित हैं और विभिन्न प्लेटफार्मों पर इस मुद्दे पर चर्चा कर रहे हैं। भारत और अफगानिस्तान के बीच उड़ानों की बहाली पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि मेरे पास हवाई यात्रा फिर से शुरू करने की कोई जानकारी नहीं है। यह काफी जटिल और संवेदनशील मामला है। इस मामले में कई कारक है जिन पर ध्यान देने की आवश्यकता है। भारत- चीन सीमा विवाद पर अरिंदम बागची ने कहा कि हमारी अपेक्षा है कि चीन हमारे साथ मिलकर काम करेगा। बाकी इलाकों में भी डिसएंगेजमेंट आगे बढ़े। कुछ इलाकों में डिसएंगेजमेंट हो गया है और कुछ इलाकों में बाकी है। हम चाहते हैं कि चीन द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकाल को माने। डेनमार्क के प्रधानमंत्री की यात्रा पर उन्होंने कहा कि एजेंडा में नवीकरणीय ऊर्जा, स्वच्छ प्रौद्योगिकियां, जल और अपशिष्ट प्रबंधन, कृषि, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, डिजिटलीकरण, स्मार्ट शहर जैसे कुछ तत्व शामिल हो सकते हैं। यह यात्रा हरित रणनीतिक साझेदारी की समीक्षा करने और यह देखने का अवसर देगी कि हम आगे क्या कर सकते हैं। डेनमार्क की 200 कंपनियां हैं, जो भारत में निवेश कर रही हैं और 60 भारतीय कंपनियों ने डेनमार्क में निवेश किया है। हम किम डेवी के प्रत्यर्पण पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। हमने इसे पहले भी उठाया है और इस मुद्दे पर डेनमार्क के साथ बातचीत कर रहे हैं। चर्चा चल रही है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget