शराब तस्‍कर की सवा करोड़ की संपत्ति सीज

आरा

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की  टीम ने  आरा में जहरीली शराब से मौत के मामले में दोषी पाए गए शराब कारोबारी संजय प्रताप सिंह की सवा करोड़ से अधिक कीमत की करीब 15 अचल संपत्तियों पर कब्जा कर लिया है। उसके एक साथी गांजा तस्कर पूर्व मुखिया की संपत्ति भी जब्त करने की तैयारी में है। ईडी के सूत्रों ने बताया कि साल 2012 में आरा के अनाईठ-बाजार समिति इलाके में शराब पीने से 21 लोगों की मौत हो गई थी। इसे लेकर नवादा थाना में केस हुआ था। इसके अलावा ईडी ने आरोपी संजय प्रताप सिंह, उसकी पत्नी किरण देवी और साथी श्री कुमार के विरुद्ध जांच शुरू की थी। जांचोपरांत ईडी ने कार्रवाई शुरू की थी। धन संशोधन निवारण अधिनियम (पीएमएल) के तहत यह कार्रवाई की गई है।

ईडी के सूत्रों के अनुसार एक निर्माणाधीन इमारत, ईट का एक भट्ठा, 1.31 करोड़ रुपए के 13 के भूखंडों समेत 15 संपत्तियां इस मामले से जुड़ी हैं। इन सभी संपत्तियों को साल 2020 के फरवरी में अस्थायी रूप से जब्त किया गया था। इन संपत्तियों पर कब्जा कर नोटिस चस्पा दिया गया। शहर के पकड़ी सर्किट हाउस रोड स्थित एक नव निर्मित अपार्टमेंट पर भी नोटिस चस्पाया गया है।

तीन साल पहले हुई थी आजीवन कारावास की सजा

शराब कांड के बाद नवादा थाना पुलिस  की जांच से पता चला था कि मृतक व्यक्तियों ने नकली शराब का सेवन किया था, जिसे संजय प्रताप सिंह और उनके सहयोगियों द्वारा अवैध रूप से बनाया और बेचा था। इस मामले में आरा कोर्ट के फैसले के तहत संजय प्रताप सहित 14 आरोपियों को गिरफ्तार किया था।  आईपीसी, आबकारी अधिनियम और एससी/एसटी अधिनियम के तहत अपराधों के दोषी और प्रत्येक आरोपी व्यक्ति को 25,000 रुपए के जुर्माने के साथ आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। 

पीएमएलए के तहत जांच से पता चला कि संजय प्रताप सिंह ने आय का निवेश किया है। अपने नाम पर और अपनी पत्नी किरण देवी के नाम पर अचल संपत्ति अर्जित करने के लिए देसी शराब के अवैध व्यापार के माध्यम से उत्पन्न अपराध, जिसकी आय का कोई स्वतंत्र स्रोत नहीं था। वर्ष 2011 में, देसी शराब से अपनी दागी आय को वैध बनाने के इरादे से, संजय प्रताप सिंह ने अपराध की आय को कम करने के लिए भोजपुर वाइन ट्रेडर्स नामक एक अपंजीकृत फर्म का गठन किया।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget