RSS ने बताया विस्तार का प्लान

अगले लोकसभा चुनाव तक देश के हर ब्लॉक में होगी मौजूदगी


धारवाड़

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाेले ने शनिवार को कहा कि आरएसएस अपनी गतिविधियों का विस्तार करने के लिए अगले तीन वर्षों में देश के सभी विकास खंडों तक पहुंचने पर विचार कर रहा है। कर्नाटक के धारवाड़ में चल रही अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल बैठक संपन्न होने के बाद तीन दिवसीय कार्यक्रम के दौरान लिए गए फैसलों के बारे में जानकारी देते हुए होसबाेले ने कहा कि हमने अपनी गतिविधियों को विस्तार देने का फैसला लिया है। वर्तमान में 6,483 विकास खंडों में से 4,683 में हतारी उपस्थिति है। हालांकि, हम मार्च 2024 तक भारत के सभी विकास खंडों तक पहुंचना चाहते हैं। गौरतलब है कि 2024 में लोकसभा चुनाव भी होना है और इस लिहाज से भी आरएसएस के विस्तार की योजना काफी अहम है। संघ ने उन लोगों से भी अपील की है, जो देश भर में इसके आधार का विस्तार करने के लिए 2 साल तक स्वेच्छा से काम करना और वर्ष 2025 तक सभी विकास खंडों में इसकी उपस्थिति सुनिश्चित करना चाहते हैं। वर्ष 2025 में संघ अपनी शताब्दी मनाएगा। आरएसएस के पदाधिकारी ने कहा कि मिजोरम, नगालैंड, कश्मीर और लक्षद्वीप में संघ की गतिविधियां नहीं हैं। उन्होंने कहा कि संघ कश्मीर में अपनी शाखाएं चला रहा था, लेकिन वहां से हिंदुओं के पलायन के बाद गतिविधियां प्रभावित हुईं। होसबाेले ने कहा कि इन राज्यों में पहुंचने के बाद स्थानीय प्रचारकों को संबंधित राज्यों में संघ के विस्तार के लिए योजना बनानी होगी।

 संघ की गतिविधियों के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि रोजाना 34,000 स्थानों पर शाखाएं चलाई जा रही हैं, जोकि कोविड महामारी के दौरान प्रभावित हुई थीं। संघ नेता ने कहा कि दैनिक शाखाएं, साप्ताहिक शाखाएं, पखवाड़ा और मासिक शाखाओं को मिलाकर 55,000 स्थानों पर संघ शाखाओं का संचालन होता है। होसबाले ने कहा कि चूंकि यह वर्ष भारतीय स्वतंत्रता की प्लेटिनम जयंती है, ऐसे में संघ ने स्वतंत्रता सेनानियों और स्वतंत्रता संग्राम के कई गुमनाम नायकों के योगदान को याद करते हुए प्रदर्शनियों का आयोजन करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि संघ सिख गुरु तेग बहादुर को श्रद्धांजलि देने के लिए विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करने की भी योजना बना रहा है। साथ ही संघ रोजगार सृजन और कौशल विकास पर भी ध्यान देना चाहता है। जनसंख्या नीति के बारे में पूछे जाने पर संघ नेता ने कहा कि प्रत्येक राष्ट्र की एक जनसंख्या नीति होनी चाहिए जो सभी पर लागू हो। उन्होंने कहा कि संघ ने कुछ साल पहले इस मुद्दे पर एक प्रस्ताव पारित किया था। प्रदूषण को रोकने के लिए दीपावली पर पटाखों पर प्रतिबंध संबंधी सवाल पर होसबाले ने कहा कि इस तरह के कदम त्योहार के आसपास नहीं बल्कि साल की शुरुआत में उठाए जाने चाहिए।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget