20 दिनों में 1000 बच्चों को हुआ कोरोना

स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने जताई चिंता


मुंबई 

कोरोनारोधी वैक्सीनेशन को लेकर महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने मंगलवार एक अहम बयान दिया। उन्होंने कहा कि कोविड के खतरे को देखते हुए छोटे बच्चों का वैक्सीनेशन तत्काल शुरू किए जाने की जरूरत है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके वरिष्ठ नागरिकों को भी बूस्टर डोज दिए जाने की जरूरत है। वे यह भी कह रहे थे कि उन्होंंने इस बारे में अपनी चिंता केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया के सामने भी दोहराई है। राज्य में कोविड की स्थिति फिलहाल नियंत्रण में है। 

कोरोना की दूसरी लहर का असर काफी कम हो गया है। औसत कोरोना संक्रमितों की संख्या रोज 600 से कम है। इसके बावजूद कोरोना की तीसरी लहर का डर बना हुआ है। इसी को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने मंगलवार वैक्सीनेशन को लेकर कोई बड़ा कदम उठाए जाने का स्पष्ट संकेत दिया। स्वास्थ्य मंत्री का ज्यादा जोर बच्चों और वरिष्ठ नागरिकों के वैक्सीनेशन पर है।

1 हजार 711 बच्चे कोरोना संक्रमित

राज्य में स्कूल खुले हुए अभी 20 दिन ही हुए हैं। लेकिन इस बीच आपस में संपर्क बढ़ने की वजह से 11 से 18 साल की उम्र के 1 हजार 711 बच्चों में कोरोना के लक्षण पाए गए हैं। हालांकि इन बच्चों में कोरोना के सौम्य लक्षण पाए गए हैं, लेकिन ये स्प्रेडर का काम कर सकते हैं। 

पहली से चौथी कक्षा के लिए स्कूल खोलने का अंतिम निर्णय लेंगे सीएम

राजेश टोपे ने कहा कि, ‘दिवाली के बाद स्कूलों में लगभग सभी वर्ग की कक्षाएं शुरू करने की मांग की जा रही है। इसको ध्यान में रखते हुए पहली से चौथी कक्षा तक के विद्यार्थियों के लिए भी स्कूल खोलने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट दे दिया है। लेकिन आखिरी फैसला मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ही लेंगे।’

राज्य में चिकनगुनिया का प्रकोप भी तेजी से बढ़ रहा है। इसको लेकर भी स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने लोगों से सावधानी बरतने की अपील की। उन्होंने कहा कि इससे संबंधित उपायों और योजनाओं को अमल में लाने का आदेश स्वास्थ्य विभाग से जुड़ी संस्थाओं को दे दिया गया है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget