250 मेगावाट सोलर बिजली उत्पादन का रास्ता साफ

पटना

लंबे समय से अधर में लटकी बिहार में 250 मेगावाट सोलर बिजली घर परियोजना का रास्ता साफ हो गया है। दो एजेंसियों ने इसमें दिलचस्पी दिखाई है। एजेंसियों का प्रस्ताव बिहार विद्युत विनियामक आयोग को भेज दिया गया है। आयोग की मंजूरी के बाद राज्य के विभिन्न जिलों में सोलर बिजली घर लगाने की कार्रवाई शुरू होगी। 

बिहार में अभी बमुश्किल 180 मेगावाट सोलर बिजली का उत्पादन हो रहा है। जबकि नियमानुसार कुल खपत का 17 फीसदी गैर परंपरागत बिजली का होना जरूरी है। 250 मेगावाट की सोलर इकाई लगाने के लिए बिहार रिन्यूअबल इनर्जी डेवलमेंट एजेंसी (ब्रेडा) की ओर से तीन साल से कोशिश की जा रही थी। लेकिन हर बार दो-तीन एजेंसियां आती और अधिक दर लगाया करती। कोई तकनीकी निविदा में पास हो जाता तो वित्तीय निविदा में पास नहीं कर पाता। इसी बीच कोरोना का कहर सामने आ गया और कई बार इसका टेंडर बढ़ाया गया। लेकिन अंतत: ब्रेडा को इसमें कामयाबी मिल गई है। सोलर बिजली घर में 250 मेगावाट में से 200 मेगावाट का उत्पादन हिमाचल सरकार और केंद्र सरकार का संयुक्त उपक्रम एसजेवीएन करेगा। बक्सर के चौसा में 1320 मेगावाट की थर्मल इकाई पर यही एजेंसी काम कर रही है।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget