एनसीपी नेता क्रूज ड्रग्स पार्टी का मास्टरमाइंड

भाजपा नेता मोहित भारतीय का सनसनीखेज आरोप

mohit bharatiya

मुंबई 

क्रूज ड्रग्स पार्टी केस में उस वक्त नया मोड़ आ गया जब भाजपा नेता मोहित भारतीय (कंबोज) ने एक सनसनीखेज आरोप लगाते हुए कहा कि पूरी साजिश का मास्टरमाइंड सुनील पाटिल नाम का व्यक्ति है और वह राकांपा का सदस्य है। 

भारतीय ने कहा कि सुनील पाटिल के पिछले दो दशक से अधिक समय से राकांपा के शीर्ष नेताओं से करीबी संबंध रहे हैं और राकांपा नेताओं के जरिए अवैध काम करवाता रहा है। इतना ही नहीं, इस ड्रग्स मामले में पुणे में गिफ्तार किरण गोसावी सुनील पाटिल का ही खास आदमी है।

मोहित भारतीय ने शनिवार को प्रेस क्लब मुंबई में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में आरोप लगाया कि जिस किरण गोसावी को पुणे पुलिस ने गिरफ्तार किया है और उसे राकांपा मंत्री नबाव मलिक पिछले 20-25 दिन से नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) का आदमी बता रहे हैं, वह, दरअसल, सुनील पाटिल का आदमी है और सुनील पाटिल को बचाने के लिए मलिक ने एक सुनियोजित साजिश के तहत किरण गोसावी को एनसीबी और भाजपा का आदमी बता दिया।

भारतीय ने यह भी आरोप कि सुनील पाटिल अनिल देशमुख का भी बहुत करीबी है और देशमुख के बेटे ऋषिकेश का जिगरी दोस्त है। सुनील पाटिल एक अक्टूबर 2021 से सैम डिसूजा और किरण गोसावी के संपर्क में था। जबकि क्रूज पर एनसीबी ने छापा दो अक्टूबर को मारा था। भारतीय ने इस बारे में सुनील पाटिल, किरण गोसावी और सैम डिसूजा के बीच हुए वॉट्सअप चैट को भी सार्वजनिक कर दिया। भारतीय ने गोसावी की उस धमकी भरे ऑडियो को भी मीडिया के सामने पेश किया, जिसमें गोसावी गुस्से में कह रहा है कि अगर वह फंसा तो वह महाराष्ट्र से उन सभी मंत्रियों की पोल खोल देगा, जो लोग पूरे ड्रग्स प्रकरण में शामिल रहे हैं।  भारतीय ने कहा कि वॉट्सअप चैट और आडिया रिकॉर्डिंग से साबित होता है कि सुनील पाटिल ही क्रूज ड्रग्स मामले की पूरी साजिश का मास्टरमाइंड है। दरअसल, सुनील पाटिल कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन सरकार के कार्यकाल के दौरान 1999 से 2014 और फिर 2019 से महाविकास आघाड़ी सरकार के कार्यकाल में ट्रांसफर-पोस्टिंग रैकेट में शामिल रहा है। क्रूज ड्रग केस में भी सुनील पाटिल किरण गोसावी के जरिए करोड़ों रुपए की उगाही करने वाला था।

भाजपा नेता ने यह भी आरोप लगाया कि सुनील पाटिल के नाम से द ललित होटल में हमेशा कमरे बुक रहते थे, जहां वह केवल ठहरता ही नहीं था, बल्कि ऋषिकेश देशमुख और ट्रांसफर-पोस्टिंग रैकेट में शामिल लोग पार्टी करते थे, उन्होंने कहा कि राज्य सरकार चाहे तो ललित होटल के सीसीटीव फुटेज से सुनील पाटिल का पता लगा सकती है। प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गिरफ्तार किए गए अनिल देशमुख पर गंभीर आरोप लगाते हुए भारतीय ने कहा कि सख्त लॉकडाउन के दौरान तत्कालीन गृहमंत्री अनिल देशमुख ने सह्याद्रि राज्य अतिथि गृह में आतंकवादी दाऊद इब्राहिम के आदमी ड्रग पेडलर चिंकू पठान से मुलाकात की थी। चिंकू पठान म्याऊं-म्याऊं ड्रग का सबसे बड़ा सप्लायर है और पिछले  21 जनवरी को एनसीबी ने उसकी डोंगरी स्थित ड्रग फैक्ट्री में छापेमारी करके हथियार और ड्रग्स को भी जब्त किया गया था।

शेलार भी हुए हमलावर

भाजपा नेता मोहित कंबोज द्वारा लगाए गए आरोपों के बाद अब भाजपा विधायक आशीष शेलार ने एनसीपी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। शेलार ने कहा कि धुले के सुनील पाटिल का एनसीपी क्या रिश्ता है, इसका खुलासा होने चाहिए, कहीं वह विदेश में बैठकर यह पूरा खेल तो नहीं खेल रहा है। राज्य सरकार को इसमें एक एफआईआर दर्ज कर यह अंतर राज्यीय मामला होने के कारण इसे सीबीआई को जांच के लिए देना चाहिए। अगर एेसा नहीं होता है तो इससे साफ हो जाएगा कि इसमें सरकार भी शामिल है। उन्होंने कहा कि यह ड्रग्स और पुलिस के दलालों को बचाने का सरकार का एक प्रयोग है। शेलार ने आरोप लगाते हुए कहा कि दाऊद का सहयोगी रिंकू पठान को कोरोना काल में जेल से छोड़ दिया गया और सह्या​िद्र अतिथिगृह पर पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख और उसके बीच प्रोटेक्शन मनी को लेकर मीटिंग भी हुई।


Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget