नांदेड़ और मालेगांव में ‘बंद’ के दौरान हिंसा

सैकड़ों दुकानों में तोड़फोड़,  ASP समेत 13 घायल


मुंबई

त्रिपुरा में कथित तौर पर गिराए गए मस्जिद को लेकर बुलाये गए बंद में जोरदार हिंसा हुई है। इस हिंसा की आग राज्य के नांदेड, नाशिक के मालेगांव के साथ अमरावती में जोरदार हिंसा हुई। इस दौरान उपद्रवियों ने सैकड़ों दुकानों में तोड़फोड़ कर उन्हें लुट लिया। वहीं वहां मौजूद गाड़ियों में भी तोड़फोड़ की गई। इस हिंसा में एडिशनल एसपी समेत चार पुलिसवाले घायल हुए, वहीं छह आम लोग भी घायल हुए हैं। जिन्हें अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। 

त्रिपुरा में हुई हिंसा को लेकर राज्य में मुस्लिम संगठनों ने बंद और रैली बुलाई थी। लेकिन यह रैली हिंसक हो गई। जिसका सबसे ज्यादा असर नांदेड, नाशिक के मालेगांव और अमरावती में हुआ। उपद्रवियों ने जबरदस्त उत्पात मचाया, कई जगह दूकानों पर पथराव किया। जानकारी के मुताबिक, पुलिस की गाड़ी पर भी पथराव किया गया है। जिसमें एक एसआई सहित सात पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। वहीं अमरावती में प्रदर्शन के दौरान 20 से ज्यादा दुकानों में तोड़फोड़ की जाने की घटना सामने आई है। 

मिली जानकारी के अनुसार, त्रिपुरा हिंसा को लेकर नासिक के मालेगांव में समुदाय विशेष ने अब्दुल हमीद चौक पर प्रदर्शन और रैली निकाली थी, लेकिन रैली के बीच एक ही समुदाय के दो ग्रुप आपस मे भिड़ गए और जबरदस्त पथराव हुआ।

 घटना के वक्त वह पर 5 से 6 हजार लोगों की भीड़ मौजूद थे और पुलिस बल भी उपस्थित थे। 

वहीं एक समुदाय के दो धड़ों में हुए पथराव के बाद पूरे शहर में तनाव बढ़ गया है। कई गाड़ियों पर भी पथराव किया गया है। 

त्रिपुरा हिंसा की बात करें तो वहां भी पुलिस एक्शन में दिखाई दे रही है। सांप्रदायिक हिंसा के तुरंत बाद ही पुलिस ने सिर्फ कई लोगों को गिरफ्तार नहीं किया बल्कि बड़े स्तर पर सोशल मीडिया अकाउंट भी बंद करवाए. बकायदा ट्विटर को पत्र लिख 100 से ज्यादा अकाउंट बंद करने की अपील की गई. पुलिस ने स्पष्ट कहा कि हिंसा सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए भड़काई गई थी. पुराने और तथ्यहीन वीड़ियो शेयर कर माहौल खराब करने का प्रयास हुआ था।

सरकार को तुरंत संज्ञान लेना चाहिए

अमरावती, नांदेड़ और मालेगांव में बड़ी संख्या में रैलियां, त्रिपुरा में कथित घटनाओं और उसके परिणामस्वरूप हुई पथराव, तोड़फोड़ और हिंसा का फायदा उठाते हुए बहुत चिंताजनक है। देवेंद्र फड़नवीस ने ट्विटर के जरिए अपील की कि राज्य सरकार को तुरंत इस पर संज्ञान लेना चाहिए और स्थिति को नियंत्रण में रखना सुनिश्चित करना चाहिए।

गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने स्थिति की समीक्षा के बाद राज्य की जनता से शांति और संयम बनाए रखने की अपील की है। राज्य सरकार स्थिति पर पूरी तरह नियंत्रण में है। साथ ही गृह मंत्री खुद वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के माध्यम से स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। नागरिकों को किसी भी अफवाह पर विश्वास नहीं करना चाहिए। गृह मंत्री ने सभी हिंदुओं और मुसलमानों से संयम बरतने की अपील की है।


Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget